Responsive Ad Slot

देश

national

प्रदेश

y

धर्म

Dharm

खेल

Sports

कारोबार

Business

टेक

Technology

प्रदेश

देश - दुनिया

VIDEO

Videos

News By Picture

Cinema

दुनिया

स्वास्थ्य

शिक्षा व नौकरी

सरदार बल्लभभाई पटेल जयंती: राज्यपाल आनंदीबेन पटेल एवं सीएम योगी ने राजभवन में किया सरदार पटेल की प्रतिमा का अनावरण

No comments

 लखनऊ

उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ में सरदार बल्लभभाई पटेल की 145वीं जयंती राष्ट्रीय एकता दिवस के अवसर पर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ और राज्यपाल आनंदीबेन पटेल ने श्रद्धा सुमन अर्पित किया। इस दिन को पूरे देश में राष्ट्रीय एकता दिवस (राष्ट्रीय एकता दिवस) के रूप में भी मनाया जाता है। इस मौके पर योगी ने कहा कि लौह पुरुष ने देश को एकता एवं अखंडता के बंधन में बांधने के लिए अपना पूरा जीवन लगा दिया। उनका जीवन आज के लोगों के लिए प्रेरणा का स्रोत है।

लखनऊ में सीएम योगी आदित्यनाथ ने राजभवन में स्थापित लौह पुरुष के नाम से विख्यात सरदार वल्लभ भाई पटेल की प्रतिमा का अनावरण किया। उनकी यह प्रतिमा उत्तर प्रदेश राजभवन में लगाई गई है। इस अवसर पर राज्यपाल आनंदीबेन पटेल के साथ ही योगी आदित्यनाथ सरकार के कई मंत्री तथा वरिष्ठ प्रशासनिक व पुलिस के अधिकारी मौजूद थे।

पूरा जीवन देश की एकता के लिए समर्पित रहा
सीएम योगी ने कहा कि, सरदार पटेल जी को श्रद्धा सुमन और नमन करते हुए प्रदेश वासियों की ओर से विनम्र श्रद्धांजलि अर्पित करता हूं। हम सब जानते हैं एक सामान्य किसान परिवार में जन्में लौह पुरूष सरदार पटेल जी ने भारत माता के प्रति अटूट श्रद्धा और आस्था होने के कारण उन्होंने अपना पूरा जीवन भारत की एकता और अखंडता के लिए समर्पित किया। एक महान सेनानी होने के साथ देश के स्वतंत्र होने के समय एकता और अखंडता के लिए समर्पित किया।

एक महान स्वतंत्रता संग्राम सेनानी होने के साथ भारत के अंदर देश के स्वतंत्र होते समय अपनी नीतियों से जो भारत को अलग-अलग टुकड़ों में बांट कर के हजारों वर्षों से चले आ रहे हैं सनातन राष्ट्र को छिन्न कर दें। सरदार वल्लभभाई पटेल ने समय रहते अपने सूझबूझ कर 562 देशी रियासतों को एक सूत्र में बांध करके भारत को एक रखने का साहसी कार्य किया।

अगर ब्लड प्रेशर कंट्रोल रखना है, तो डाइट में जरूर शामिल करें ये 5 फूड्स

No comments

 अगर ब्लड प्रेशर को लेकर परेशान रहते हैं या उसे ठीक नहीं कर पा रहे हैं तो हम आपको आज ऐसे पांच फूड्स के बारे में बता रहे हैं, जो कि ब्लड प्रेशर का नियंत्रण बिना किसी एक्सरसाइज और डॉक्टर की सलाह के कर सकते हैं। हाई ब्लड प्रेशर एक ऐसी सिचुएशन है, जिसकी जानकारी हम अब अच्छी तरह से है। ये इतनी ज्यादा है कि युवा भी इससे अछूते नहीं हैं। हाई ब्लड प्रेशर एक ऐसी बीमारी है जो कि हमारे खराब आहार और लाइफस्टाइल के चलते हो सकती है। अगर हम एक अच्छे आहार का सेवन करेंगे तो ब्लड प्रेशर संबंधित बीमारी को ठीक कर सकते हैं।

बादाम: 

बादाम ओमेगा 3 फैटी एसिड से भी भरपूर फूड है। इसी के साथ बादाम पोटेशियम का एक अच्छा स्रोत है। बादाम दिल को मजबूत करने के साथ दिल से जुड़ी बीमारियों को ठीक करने के लिए भी काफी ज्यादा मददगार साबित होता है। गर्मियों के मौसम में बादाम भिगोकर खाना ज्यादा बेहतर है। वैसे आप सर्दियों में रॉ बादाम भी खा सकते हैं।

केला: 

केला एक ऐसा फल है जो कि बहुत ही आसानी से मिल जाता है और जिसका सेवन बहुत ही आसानी से किया जा सकता है। पोटेशियम से भरपूर केला आसानी से छीलकर खाया जा सकता है। केला पोटेशियम सोडियम के नेगेटिव इफेक्ट्स को कम करने में मदद करता है। पोटेशियम एक वासोडिलेटर के रूप में काम करता है जो अतिरिक्त सोडियम को पेशाब करने और बाहर निकालने के लिए बनाता है।

पालक: 

पालक एक पोटैशियम से भरपूर फूड है जो कि खाने में ज्यादा टेस्टी न लगे, लेकिन सेहत के लिए बहुत ही फायदेमंद होता है। वहीं, पालक दिल के अनुकूल फोलेट और मैग्नीशियम का भी एक अच्छा स्रोत है। अगर टेस्ट की बात करें तो आप पालक का उपयोग स्मूदी, सलाद, सूप, सब्जी, स्टीव आदि बनाने के लिए कर सकते हैं।

लो फैट वाली दही: 

एक्सपर्ट के अनुसार लो फैट वाली दही का प्रति सप्ताह में सिर्फ दो बार सेवन हाई ब्लड प्रेशर वाले लोगों के लिए फायदेमंद साबित हो सकता है। इसी के साथ आप इसमें टेस्ट शामिल करना चाहते हैं तो दही से बने व्यंजन जैसे ग्रीक योगर्ट, डिप्स आदि भी खा सकते हैं।

चुकंदर: 

चुकंदर लाल जड़ वाली ऐसी सब्जी है जो कि दिल के लिए स्वस्थ पोषक तत्वों से भरपूर है और साथ ही साथ इसमें पोटेशियम है। बता दें कि हर 100 ग्राम चुकंदर में करीब 325 मिलीग्राम पोटैशियम की मात्रा होती है। इसी के साथ चुकंदर फाइबर, फोलेट (विटामिन बी 9), मैंगनीज, आयरन और विटामिन सी से भरपूर फूड है। अगर आप रोजाना चुकंदर के रस का एक ग्लास पिएंगे, तो जल्द ही इसके सकारात्मक परिणाम देखने को मिलेंगे।

योगी सरकार का बड़ा फैसला, उद्योगों के लिए अब सस्ते में उपलब्ध होगी कृषि भूमि

No comments

 लखनऊ

उत्तर प्रदेश में अब उद्योगों के लिए जमीन और सस्ते दर मिल सकेगी। सीएम योगी आदित्यनाथ की अध्यक्षता में शुक्रवार को हुई कैबिनेट की बैठक में खेती की जमीन के औद्योगिक भू-उपयोग में बदलने का शुल्क 15% घटाने का फैसला लिया गया है। अब औद्योगिक भू-उपयोग के लिए सर्किल रेट का 20% ही देना होगा। पहले यह दर 35% थी। इससे उद्योगों के लिए लैंडबैंक बढ़ाने में मदद मिलेगी।

कैबिनेट ने यूपी नगर योजना और विकास (भू-उपयोग परिवर्तन शुल्क का निर्धारण, उद्ग्रहण एवं संग्रहण) नियमावली-2014 में संशोधन के प्रस्ताव को स्वीकृति दी है। आदेश जारी होते ही यह बदलाव अमल में आ जाएगा। सरकार के मुताबिक, शुल्क कम होने से उद्यमी औद्योगिक विकास के लिए प्रोत्साहित होंगे। निवेश आकर्षित कर नई इकाईयां लगाई जा सकेंगी, जिससे रोजगार के अवसर भी बढ़ेंगे।

देसी शराब के लिए रिजर्व होगा 18% शीरा
कैबिनेट ने नई शीरा नीति को मंजूरी दे दी। 18% शीरा देसी शराब के लिए आरक्षित किया जाएगा। शीरे का परिवहन जीपीएस युक्त टैंकरों से होगा। अब तक सड़क मार्ग से परिवहन के लिए 45 दिन की अधिकतम अवधि सीमा है। इसके बाद रोज 5 हजार रुपये जुर्माना लगता है। अब जुर्माने की अधिकतम सीमा 1 लाख रुपये तय कर दी गई है। हर चीनी मिल को आरक्षित एवं अनारक्षित शीरे की बिक्री के लिए हर महीने की 7 तारीख तक ऑनलाइन शीरा पोर्टल पर टेंडर अपलोड करना होगा।

विंध्यवासिनी मंदिर का मार्ग चौड़ा होगा
मीरजापुर के प्रसिद्ध विंध्यवासिनी धाम कॉरिडोर के प्रस्ताव को भी कैबिनेट ने मंजूर किया है। इसके तहत विंध्यवासिनी देवी मंदिर के चारों ओर 50 फुट का परिक्रमा पथ बनेगा। अभी मंदिर के चारों ओर श्रद्धालु परिक्रमा करते हैं, लेकिन मार्ग संकरा होने से दुर्घटना की आशंका रहती है। कॉरिडोर का कुल क्षेत्रफल 2,542 वर्गमीटर होगा। परियोजना के बारे में आगे फैसलों के लिए सीएम को अधिकृत कर दिया गया है।

सारनाथ-कुशीनगर पर खर्च होंगे 167 करोड़
बौद्ध सर्किट के दो अहम केंद्रों सारनाथ और कुशीनगर के विकास पर 167 करोड़ रुपये खर्च किए जाएंगे। कैबिनेट ने सारनाथ के लिए 18 और कुशीनगर में 8 विकास परियोजनाओं को मंजूरी दे दी है। दोनों ही स्थलों पर विपश्यना ध्यान केंद्रों का निर्माण होगा। मार्गों पर स्ट्रीट लाइट, चौराहों का सौंदर्यीकरण, गोल्फकोर्ट की सुविधा, कुशीनगर में हिरण्यवती नदी पर फुटओवर ब्रिज बनाया जाएगा। कैबिनेट ने मुजफ्फरनगर में श्री शुकदेव आश्रम स्वामी कल्याण देव सेवा ट्रस्ट को लीज पर दी गई 5 एकड़ जमीन का लीज 30 वर्ष बढ़ाने का प्रस्ताव राष्ट्रीय वन्य जीव बोर्ड को भेजने पर सहमति दे दी है।

यूपी की खेती में मदद करेगा जापान
प्रदेश के कृषि शिक्षा व अनुसंधान विभाग और जापान के वन तथा मत्स्य मंत्रालय के बीच मेमोरेंडम ऑफ कोऑपरेशन को भी मंजूरी मिल गई है। केंद्र सरकार से अनुमति मिलने के बाद प्रक्रिया आगे बढ़ाई जाएगी। जापान खेती को बेहतर बनाने तथा प्रदेश के कृषि एवं प्रौद्योगिक विश्वविद्यालयों में कृषि संबंधी क्षेत्रों में रिसर्च, एजुकेशन एवं एक्सटेंशन के क्षेत्र में एक्सिलेंस प्राप्त करने में मदद करेगा। एक अन्य फैसले में जल-जीवन मिशन के तहत बुंदेलखंड, विंध्य और गुणवत्ता प्रभावित गांवों में पेयजल योजना को भी मंजूर कर लिया गया है। 200 करोड़ से अधिक लागत की 3 परियोजनाएं मंजूर की गई हैं। इससे 953 गांवों में शुद्ध पेयजल मिल सकेगा।
© all rights reserved
Managed By-Indevin Infotech-Leading IT Company