Responsive Ad Slot

देश

national

इंदौर :1 अप्रैल तक देश का सबसे सख्त लॉकडाउन ,सिर्फ 7 पेट्रोल पंप खुले, पुलिस बोली- लोग बाहर निकले तो केस दर्ज करेंगे

Monday, March 30, 2020

/ by Editor
इंदौर. कोरोनावायरस के संक्रमण से बचने के लिए देशभर में जारी 21 दिन के लॉकडाउन के बावजूद इंदौर में आम लोग लापरवाही करते रहे। नतीजा यह हुआ कि शहर में संक्रमितों की संख्या 24 हो गई। शहर में अब कोरोना की स्टेज-3 यानी वायरस के कम्युनिटी ट्रांसमिशन का खतरा मंडराने लगा है। इसी वजह से इंदौर में 1 अप्रैल तक देश का सबसे सख्त लॉकडाउन लागू किया गया है। सोमवार सुबह जब इसकी शुरुआत हुई तो किराने की दुकानें बंद रहीं। होम डिलीवरी भी नहीं हुई। स्वयंसेवी संस्थाओं को चौराहों पर जाकर खाना बांटने से रोक दिया गया। शहर में पुलिस, प्रशासन, हेल्थ वर्कर्स, मेडिकल स्टोर्स और मीडिया को छोड़कर हर तरह की गाड़ियों को प्रतिबंधित कर दिया गया। कई इलाकों में दूध भी नहीं बंटा। बाद में प्रशासन ने थोड़ी राहत देते हुए कहा कि सुबह 6 से 9 बजे और शाम से 5 से 7 बजे तक दुकानों से दूध मिलेगा।

लॉकडाउन का उल्लंघन किया तो कार्रवाई: कलेक्टर
कलेक्टर मनीष सिंह ने साफ कर दिया है कि लॉकडाउन का उल्लंघन करने वालों पर कानूनी कार्रवाई होगी। नियम तोड़ने वालों को खुली जेल में रखा जाएगा। भोजन बांटने के लिए एनजीओ को दिए गए पास भी निरस्त कर दिए गए हैं। यह जिम्मेदारी अब प्रशासन उठाएगा। पहले चरण में 10 हजार फूड पैकेट्स बांटे जाएंगे।
सख्ती के बाद इंदौर के हालात
चौराहों पर लॉकडाउन और भारत बंद लिखा
इंदौर में नगर निगम के सफाई कर्मचारियों ने शहर की सीमाओं के आसपास और चौराहों पर लिखा- लॉकडाउन और भारत बंद। शहर में 24 घंटे खुले रहने वाले पेट्रोल पंप बंद हैं। सिर्फ 7 पेट्रोल पंप खुले हैं, जो इमरजेंसी सेवाओं- एंबुलेंस, टैंकर, सरकारी वाहन को डीजल, पेट्रोल दे रहे हैं। पुलिस ने सुबह 7 बजे के बाद हर चौराहे पर नाकेबंदी कर दी है। हर आने-जाने वाले को समझाइश दी जा रही है। पुलिस का कहना था कि थोड़ी देर समझाएंगे, नहीं मानते हैं तो केस दर्ज करेंगे।

सुबह 5 बजे से दूध डेयरियों के बाहर भीड़, निराश लौटे लोग
सोमवार सुबह 5 बजे से शहर की डेयरी के बाहर लोग पहुंचना शुरू हो गए। यहां चौराहों पर भी आज दूध बांटने आने वालीं गाड़ियां नहीं आईं। कई लोगों को पता नहीं था कि आज से दूध की सप्लाई बंद है। इनका कहना था कि अगर दूध नहीं मिलेगा तो घर में छोटे बच्चों का क्या होगा। वे भूखे ही रहेंगे। प्रशासन सुरक्षा के अच्छे कदम उठा रहा है, लेकिन सुविधाओं का भी ख्याल रखें।
सिक्योरिटी गार्ड 10-15 किमी पैदल चलकर नौकरी करने आ-जा रहे
कई गार्ड पैदल आते-जाते देखे गए। ये जहां नौकरी करते हैं, वहां से उनका घर 10-15 किमी दूर है। इंदौर के मॉल, होटल में काम करने वाले लोगों ने बताया कि अचानक लॉकडाउन से हमारे साथियों को पैसे नहीं मिले। उनकी आर्थिक हालत बहुत खराब है।
बुंदेलखंड के मजदूरों को ठेकेदार ने पैसे नहीं दिए, भूखे-प्यासे घर लौट रहे
इंदौर में काम करने वाले 150 मजदूर भोपाल-इंदौर हाइवे (एबी रोड) पर देखे गए। ये लोग अपने घरों के लिए निकले। इनमें छतरपुर, पन्ना, दमोह, सागर के रहने वाले थे। सभी मजदूरी करते हैं। सिक्योरिटी गार्ड हैं। कुछ लोग पीथमपुर से आए थे, जो कल दोपहर 12 बजे घर से निकले थे। मजदूरों का कहना था कि हम 4-5 दिन से यहां रुके रहे। सोचा कि सब सामान्य हो जाएगा तो काम मिल जाएगा। ठेकेदार से भी मजदूरी के पैसे नहीं मिले। जो जेब में थे, वे भी खर्च हो गए।
जोधपुर से 9 दिन में घर आया, पुलिस ने खाना खिलाया और गाड़ी में बैठाया
जोधपुर में चाय-मसाले की फैक्ट्री में काम करने वाला बहादुर 9 दिन की यात्रा के बाद आज इंदौर पहुंचा। बहादुर ने बताया कि कोरेाना से लोगों के मरने की खबरों के बाद फैक्ट्री में काम बंद कर दिया गया। शहर में कर्फ्यू लगने से ठेकेदार ने हाथ खड़े कर दिए। ठेकेदार ने सभी मजदूरों से अपनी व्यवस्था करके घर जाने के लिए कह दिया। उसे ठेकेदार से 10 हजार रुपए देने लेने थे, लेकिन कर्फ्यू के कारण उससे मिल ही नहीं पाया। मेरी तरह करीब 150 लोग अलग-अलग जगहों के लिए बिना के पैसे निकले। बहादुर के मुताबिक, राजस्थान पुलिस ने खाना खिलाकर वहां से एक गाड़ी में बैठा दिया, उससे एमपी बॉर्डर तक आ गया। वहां से 200 किमी पैदल चलकर इंदौर पहुंचा। सड़कों पर लोग किसी ट्रक के मिलने की आस में पैदल चलते जा रहे हैं। बच्चे, बुजुर्ग सब घर जाने के लिए परेशान हैं।

No comments

Post a Comment

Don't Miss
© all rights reserved
Managed By-Indevin Infotech-Leading IT Company