Responsive Ad Slot

देश

national

कोरोना से जंग में सीएम नीतीश आज आजमाएंगे पीएम मोदी का फार्मूला

Tuesday, May 5, 2020

/ by Editor
नीलकमल (पटना)


 कोरोना संक्रमण काल में बिहार में चल रही राजनीति जगजाहिर हो चुकी है। इसी साल राज्य में संभावित विधानसभा चुनाव को देखते हुए विपक्षी दल लगातार नीतीश सरकार की कार्यप्रणाली पर सवाल उठा रही है। ऐसे में विपक्ष के सारे सवालों का जवाब देने के लिए मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी फॉर्म्युला को अपनाते हुए सर्वदलीय बैठक बुलाई है। कोरोना वायरस  के बढ़ते प्रकोप को देखते हुए सरकार भी मानकर चल रही है कि कोरोना को हराने के लिए सभी लोगों का साथ जरूरी है। फिर चाहे वह आम जनता हो या विपक्ष की पार्टियां। मंगलवार यानी आज मुख्यमंत्री नीतीश कुमार वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग (वीसी) के जरिए शाम के साढ़ चार बजे सभी दल के नेता और वरिष्ठ विधायक, विधान पार्षद के साथ बातचीत करेंगे।


बता दें कि इसके पहले नीतीश कुमार ने वीसी के माध्यम से ही जेडीयू नेताओं से बात कर सभी जिलो के स्थिति की जानकारी ली थी। इसके बाद जेडीयू के सभी नेताओं को अपने अपने इलाके में जेडीयू कार्यकर्ताओं के साथ व्हाटसएप पर जुड़ने का निर्देश भी दिया गया था। ताकि उन्हे अपने क्षेत्र की जानकारी मिलती रहे और उसी के आधार पर वहां राहत पहुंचायी जा सके। मुख्यमंत्री ने सोमवार को भी वीसी के माध्यम से ही 9 सांसद और एक दर्जन से अधिक विधायक के साथ वीसी के जरिए बातचीत की थी। सभी सांसद और विधाय और पार्षद अपने-अपने क्षेत्र से वीसी में जुड़े थे और वीसी के दौरान मुख्यमंत्री को अपने-अपने क्षेत्र की स्थिति से अवगत कराया।

मुख्यमंत्री नीतीश के साथ वीसी में आज कौन होंगे शामिल
कोरोना के खिलाफ लड़ाई में सबका सहयोग लेने के मुखयमंत्री की पहल पर बिहार विधान सभा के अध्यक्ष विजय कुमार चौधरी सभी राजनीतिक दलों के नेता को साथ लाने की कवायद में जूटे हैं। बताया गया कि आज की इस वीसी में प्रमुख विपक्षी दल आरजेडी के वरिष्ठ नेता अब्दुल बारी सिद्दकी, आरजेडी नेता और बिहार विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव, हिन्दुस्तानी अवाम मोर्चा प्रमुख और पूर्व मुख्यमंत्री जीतनराम मांझी, माले विधायक दल के नेता महबूब आलम, कांग्रेस से सदानंद सिंह, लोजपा के नेता के साथ सत्ता में शामिल बीजेपी से बिहार के उपमुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी, कृषि मंत्री प्रेम कुमार और स्वास्थ्य मंत्री मंगल पाण्डेय भी शामिल होंगे।

बताया गया कि सर्वदलीय बैठक का उदेश्य ही वैश्विक महामारी से लड़ने के लिए सभी दलों का सहयोग प्राप्त करना और राज्य सरकार द्वारा कोरोना के खिलाफ लड़ी गई इस लड़ाई में क्या कदम उठाए गये है इसकी जानकारी विपक्ष के नेताओं को देना है।

कोरोना वायरस का बदलता स्वभाव और भी खतरनाक
स्वास्थ्य विभाग की ओर से मिली जानकारी के अनुसार कोरोना वायरस का स्वभाव अब बदल रहा है। बताया गया कि पहले कोरोना संक्रमित लोगों में सर्दी, सूखी खांसी, सांस लेने में दिक्कत, सिर में दर्द और बुखार जैसे लक्षण मिलते थे। लेकिन अब जो कोरोना संक्रमित मरीज मिल रहे हैं उनमें से ज्यादातर को कोरोना के बताए गये लक्षण में एक भी लक्षण मौजूद नही थे। बावजूद इसके उनलोगों के सैंपल जांच रिपोर्ट पाजिटिव पाये गये।

स्वास्थ्य विभाग की ओर से बताया गया कि सूबे में 81 फीसदी कोरोना संक्रमित मरीज ऐसे हैं, जिनमें इस बीमारी के लक्षण नहीं थे। यही वजह है कि ऐसे लोग लक्षण ना होने की वजह से बाहर निकल रहे थे और अनजाने में संक्रमण को फैला रहे थे। स्वास्थ्य विभाग की ओर से कहा गया कि कोरोना के बदलते स्वभाव को देखते हुए बिहार में और भी सख्ती से लॉकडाउन का पालन करने की आवश्यकता है।

बता दें की यही वजह है कि बिहार में किसी भी जिले को ग्रीन जोन में नहीं रखा गया है और लॉकडाउन एक और दो की तरह ही आम लोगों पर पाबंदी जारी है।

No comments

Post a Comment

Don't Miss
© all rights reserved
Managed By-Indevin Infotech-Leading IT Company