Responsive Ad Slot

देश

national

'चारो ओर घिरी धर्मों की दावानल' -निभा चौधरी

Tuesday, June 16, 2020

/ by Editor

                                                 लेखिका - निभा चौधरी (आगरा)

काव्य सरस रस अमृत ,,
वृंदावन मिलता है !!
गोपिन के रत्तीभर माखन मैं ,,
नृत्य श्याम रस-खान पिया करता है !!

क्या हज क्या कावा और मदीना ,,
जिद की मस्जिद का आना-जाना छोड़ो !!
अपने श्रीराम कृष्ण प्रेम की खातिर ,,
ऐसे अली नवी के इस्लाम से नाता तोड़ो !!

जो फतवाओं में कत्ल की बात करे ,,
उसकी अजान मैं अल्लाह कहना छोड़ो !!
मिट न सकेगी यहाँ दूरी मजहब की ,,
तुम डर से अब ऐसा खुदा बुलाना छोड़ो !!

चारों ओर घिरी धर्मों की दावानल ,,
अब इस भारत में खुद को बचाना सीखो !!
बाहर भीतर यहाँ किसका शोर बड़ा ,,
चंद वैशाखियों को फैंक के चलना सीखो !!

कितना दर्द बँटा है ,,
मजहब के इन हथियारों से !!
पथ भर दिए घृणा से ,,
नारा देकर के लगाते मेले अत्याचारों के !!

यहाँ जीवन जीना भयबस टूटा ,,
गर्दन कटती रही है तलवारों से !!
पार नदी में कर कैसे जाऊँ ,,
यहाँ डूबी कश्ती,कैसे कर लूँ रक्षा पतवारों से !!

हम क्यों संकल्पित है ,,
बस गीता रामायण भाष्य सुनाने को !!
विश्व शांति की खातिर ;;
लगे हुए हैं अपना ही देश मिटाने को !!

ये मुझको शान्ति उपदेश सिखाएंगे !!

ऐसी रक्त प्पास की नंगी तलवारें ,,
भारत में शांति उपदेश सिखाती हैं !! 
स्वीकार करो सब इस्लाम यहाँ ,,
ये कह लाशों पर लाशें गिर जाती हैं !!

ऐसे शैतान हैं मजहब के मतबाले ,,
लेकर दंड भिड़ोगे राम नाम जपने बाले !!
आतंक देश में चलकर आया है ,,
नगर नगर में पहुँच गए खून बहाने बाले !!

अब एक धर्म की शान्ति ध्वजा ,,
ले लो इन नागा सन्यासी हाथों से !!
शैतान मुहम्मद की हरी पताका ,,
खून से लथपथ न कर पाए बस्ती बाजारों को !!

इस अनहोनी के खेल को ,,
अपनों ने अपनों पर होते देखा !!
जाने बाली हर पीढ़ी को ,,
मौत के आगे नतमस्तक होते देखा !!

अगले पल तुम्हें वो खेल खेलना है ,,
मौत से पहले लड़कर मरना सीखो !!
अर्जुन का गांडीव उठा बाद में ,,
युद्ध बिजय रणकौशल करना सीखो !! 

समय नहीं रहा मौन शांति की बातों का ,,
निर्धारण अपने कर्मों का करना सीखो !!
गुप्त शक्ति के प्रवल बेग को बाहर लाकर ,,
अपनी रक्षा का प्रण और समर्पण करना सीखो !!

इस मात्रभूमि का कोटि कोटि ,,
 अंतर्मन से अभिनंदन वंदन करना सीखो !!
इस भारतभूमि के उन बीरों का ,
अब शत-शत पूजन करना सीखो !! 

No comments

Post a Comment

Don't Miss
© all rights reserved
Managed By-Indevin Infotech-Leading IT Company