Responsive Ad Slot

देश

national

तजाकिस्तान में 5.8 तीव्रता का भूकंप, जम्मू कश्मीर में भी हुआ असर

Tuesday, June 16, 2020

/ by Editor
दुशान्बे 
जम्मू कश्मीर में मंगलवार सुबह भूकंप के तेज झटके महसूस किए गए। जानकारी के मुताबिक, भूकंप का केंद्र ताजिकिस्तान की राजधानी दुशान्बे बताया जा रहा है। रिक्टर स्केल पर इसकी तीव्रता 5.8 मापी गई। इसका केंद्र दुशान्बे से 341 किमी पूर्व-दक्षिणपूर्व में बताया जा रहा है।
इससे पहले जनवरी में ताजिकिस्तान में कारकेन्जा के पास 5.5 तीव्रता का भूकंप आया था।
जम्मू-कश्मीर के श्रीनगर, डोला और किश्वतवर जिलों में भी झटके महसूस किए गए। राज्य में तीन दिन में लगातार तीसरी बार भूकंप के झटके महसूस किए गए हैं। हालांकि, किसी नुकसान की खबर नहीं है। 
सोमवार को गुजरात में भी झटके महसूस किए गए थे
सोमवार को गुजरात में राजकोट से 83 किलोमीटर दूर सोमवार को 12.57 बजे भूकंप के झटके महसूस किए गए। रिक्टर स्केल पर इसकी तीव्रता 4.4 थी। इसके कुछ घंटे बाद भुज में भी आफ्टर शॉक आए। इनकी तीव्रता 4.1 मापी गई। रविवार को भी गुजरात में झटके महसूस किए गए थे। रविवार से लेकर सोमवार तक गुजरात के अलग-अलग अलग इलाकों में 14 बार आफ्टर शॉक महसूस किए गए थे।
रविवार को आए भूकंप का सबसे ज्यादा असर भी कच्छ में ही देखा गया था। 26 जनवरी 2001 को भी कच्छ के भुज में 7.7 तीव्रता का भूकंप आया था। इसमें 13 हजार से ज्यादा लोगों की मौत हुई थी।
अब तक का सबसे तेज भूकंप चिली में आया
अब तक का सबसे बड़ा भूकंप चिली में  22 मई 1960 को रिकॉर्ड किया गया। यह 9.5 तीव्रता का भूकंप था। चिली के बाद दूसरा सबसे बड़ा भूकंप 28 मार्च 1964 में अमेरिका में रिकॉर्ड किया गया था। इसकी तीव्रता 9.2 थी।
6 या इससे ज्यादा तीव्रता का भूकंप खतरनाक होता है
भूगर्भ वैज्ञानिकों के मुताबिक, भूकंप की असली वजह टेक्टोनिक प्लेटों में तेज हलचल होती है। इसके अलावा उल्का प्रभाव और ज्वालामुखी विस्फोट, माइन टेस्टिंग और न्यूक्लियर टेस्टिंग की वजह से भी भूकंप आते हैं। डॉ. अरुण ने बताया कि रिक्टर स्केल पर भूकंप की तीव्रता मापी जाती है। इस स्केल पर 2.0 या 3.0 की तीव्रता का भूकंप हल्का होता है, जबकि 6 की तीव्रता का मतलब शक्तिशाली भूकंप होता है।

No comments

Post a Comment

Don't Miss
© all rights reserved
Managed By-Indevin Infotech-Leading IT Company