Responsive Ad Slot

देश

national

दरोगा के फोन के आईएमईआई पर चलते मिले 13 हजार मोबाइल, मेरठ में चाइनीज कंपनी वीवो के खिलाफ केस दर्ज

Friday, June 5, 2020

/ by Editor
मेरठ
उत्तर प्रदेश के मेरठ में एक चौंकाने वाला मामला सामने आया है। यहां एक मोबाइल हैंडसेट के आईएमईआई नंबर पर ही 13 हजार से अधिक मोबाइल चलते मिले हैं। इत्तेफाक से हैंडसेट दरोगा का था, ऐसे में साइबर सेल की जांच में यह बात सामने आ गई। खुलासा होने के बाद पुलिस ने मोबाइल हैंडसेट बनाने वाली चाइनीज कंपनी वीवो के खिलाफ केस दर्ज किया है। बता दें कि आईएमईआई नंबर मोबाइल हैंडसेट का यूनिक नंबर होता है। यानी एक हैंडसेट का एक ही नंबर होता है। 
ऐसे हुआ मामले का खुलासा
इस मामले का खुलासा उस वक्त हुआ जब एडीजी मेरठ जोन के कार्यालय में तैनात एक दरोगा का मोबाइल फोन खराब हुआ। वह उसे ठीक कराने के लिए मोबाइल कंपनी के सर्विस सेंटर पर देकर आए। सर्विस सेंटर से मोबाइल रिपेयर होने के बाद भी उसमें बार बार एरर की समस्या आ रही थी। इसके बाद दरोगा ने जोन कार्यालय के साइबर सेल को अपना मोबाइल फोन दिखाया। जब साइबर एक्सपर्ट ने मोबाइल देखा तो उन्हें कुछ शक हुआ।
इसके बाद यह मामला तब के मेरठ के एडीजी प्रशांत कुमार के पास पहुंचा। उन्होंने साइबर क्राइम सेल प्रभारी प्रबल कुमार पंकज व साइबर एक्सपटर्स विजय कुमार को पूरे मामले की जांच सौंपी। जांच में पाया कि दरोगा के मोबाइल बॉक्स पर जो आईएमईआई लिखा हुआ है, वह मोबाइल में मौजूद आईएमईआई से अलग है। 16 जनवरी 2020 को सर्विस सेंटर मैनेजर ने जवाब दिया कि आईएमईआई नहीं बदली गई। चूंकि उस मोबाइल में जिओ कंपनी का सिम था, इसलिए साइबर सेल ने उस आईएमईआई टेलीकॉम कंपनी को भेजकर डाटा मांगा। वहां से रिपोर्ट आई कि 24 सितंबर 2019 को सुबह 11 से 11.30 बजे तक देश के अलग-अलग राज्यों के 1,3557 मोबाइलों में यही आईएमईआई रन कर रहा है।
यह नियमों का उल्लंघन, जल्द दाखिल होगी चार्जशीट
एसपी सिटी अखिलेश नारायण सिंह ने बताया कि यह बेहद गंभीर मामला है। ​एक ही आईएमईआई नंबर दूसरे मोबाइल फोन पर नहीं चल सकता। इस मामले की हर स्तर पर जांच करायी जा रही है। कंपनी के डिस्ट्रीब्यूटर को भी जांच में शामिल किया गया है। कंपनी से भी पूछा गया ​है कि एक ही आईएमईआई नंबर दूसरे मोबाइल में कैसे पहुंचा? यह कोई टेक्निकल समस्या तो नहीं है। पूरे मामले की जांच के लिए पुलिस और साइबर सेल की टीम का गठन कर दिया गया है। जांच रिपोर्ट के आधार पर चार्जशीट कोर्ट में दाखिल की जाएगी।
ट्राई के नियमों का उल्लंघन
साइबर सेल ने पूरे मामले में वीवो इंडिया के नोडल अधिकारी को नोटिस दिया। नोटिस के जवाब से पुलिस संतुष्ट नहीं हुई। वह यह भी नहीं बता पाए कि ट्राई के किस नियम के अनुसार एक आईएमईआई एक से ज्यादा मोबाइल नंबर पर सक्रिय है। साइबर सेल ने माना है कि इस मामले में मोबाइल कंपनी की लापरवाही और ट्राई के नियमों का उल्लंघन है।
पहले भी जबलपुर में पकड़ में आ चुका है मामला
साइबर मामलों के जानकार अनुज अग्रवाल कहते हैं कि इससे पहले जबलपुर में भी ऐसा ही मामला सामने आ चुका है। खास बात है कि सभी मोबाइल सेट वीवो के ही थे। यह एक आपराधिक साजिश है। मामले में कंपनी का कोई न कोई व्यक्ति मिला हुआ है, तब ऐसा हो सकता है। बताया जा रहा है कि जबलपुर में जो मामला पकड़ा गया था उसमें एक आईएमईआई के करीब एक लाख फोन ट्रैक किए थे। अकेले जबलपुर में ही ऐसे 3000 मोबाइल पाए गए थे। जबलपुर क्राइम ब्रांच ने माना था कि मोबाइल की आईएमईआई बदलने में एक निजी मोबाइल तकनीशियन का हाथ था। उसने कंपनी के अधिकृत सर्विस सेंटर को मिले डेमो नंबर का दुरुपयोग किया था।

No comments

Post a Comment

Don't Miss
© all rights reserved
Managed By-Indevin Infotech-Leading IT Company