Responsive Ad Slot

देश

national

यूपी: कैबिनेट मंत्री कमल रानी वरुण की कोरोना संक्रमण से मौत, 15 दिनों से पीजीआई में इलाज चल रहा था

Sunday, August 2, 2020

/ by Editor
कानपुर
उत्तर प्रदेश सरकार में कैबिनेट मंत्री कमल रानी वरुण की रविवार सुबह 9:30 बजे कोरोना संक्रमण के चलते मौत हो गई। वे 58 साल की थीं। यूपी में किसी मंत्री की कोरोना के चलते यह पहली मौत है। बीते 18 जुलाई को कोरोना संक्रमण की पुष्टि हुई थी। उनका बीते 15 दिनों से लखनऊ स्थित पीजीआई के एपेक्स ट्रामा सेंटर में इलाज चल रहा था। वे यूपी सरकार में प्राविधिक शिक्षामंत्री थीं। कमल रानी के शव का कानपुर में कोविड-19 प्रोटोकॉल के तहत अंतिम संस्कार होगा।
मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने उनके निधन पर शोक जताया। योगी ने आज अपने सभी कार्यक्रम स्थगित कर दिए हैं। आज यूपी में राजकीय शोक घोषित किया गया है।
योगी का ट्वीट
मंत्री कमल रानी को पहले से डायबिटीज, हाइपरटेंशन और थायराइड से जुड़ी समस्या थी। उनका ऑक्सीजन लेवल काफी कम हो गया था। हालांकि शुरुआत के 10 दिनों में उनकी तबीयत स्थिर रही, लेकिन पिछले 3 दिनों से अचानक स्थिति खराब होने लगी। शनिवार की शाम करीब 6 बजे तबीयत ज्यादा बिगड़ने के बाद उन्हें बड़े वेंटिलेटर सपोर्ट पर रखा गया था। मंत्री की बेटी भी कोरोना पॉजिटिव थी। उसे शनिवार को ही ठीक होने के बाद डिस्चार्ज किया गया था।
पार्षद से मंत्री तक का सफर किया
कमल रानी वरुण का जन्म लखनऊ में तीन मई, 1958 में हुआ था। उनकी शादी एलआईसी में प्रशासनिक अधिकारी किशन लाल वरुण से हुई थी। वे संघ से जुड़े थे। साल 1989 में भाजपा ने उन्हें कानपुर के द्वारिकापुरी वार्ड से कानपुर पार्षद का टिकट दिया था। चुनाव जीत कर नगर निगम पहुंची कमलरानी 1995 में दोबारा उसी वार्ड से पार्षद निर्वाचित हुईं थी। भाजपा ने 1996 में उन्हें उस घाटमपुर (सुरक्षित) संसदीय सीट से चुनाव मैदान में उतारा था। अप्रत्याशित जीत हासिल कर लोकसभा पहुंची कमलरानी ने 1998 में भी उसी सीट से दोबारा जीत दर्ज की थी। वर्ष 1999 के लोकसभा चुनाव में उन्हें सिर्फ 585 मतों के अंतराल से बसपा प्रत्याशी प्यारेलाल संखवार के हाथों पराजित होना पड़ा था। सांसद रहते कमलरानी ने लेबर एंड वेलफेयर, उद्योग, महिला सशक्तिकरण, राजभाषा व पर्यटन मंत्रालय की संसदीय सलाहकार समितियों में रहकर काम किया।
2015 में हुई थी पति की मौत
वर्ष 2012 में पार्टी ने उन्हें रसूलाबाद (कानपुर देहात) से टिकट देकर चुनाव मैदान में उतारा लेकिन वह जीत नहीं सकी थी। 2015 में पति की मृत्यु के बाद 2017 में वह घाटमपुर सीट से भाजपा की पहली विधायक चुनकर विधानसभा में पहुंची थीं। पार्टी की निष्ठावान और अच्छे बुरे वक्त में साथ रहीं कमलरानी को योगी आदित्यनाथ की कैबिनेट मंत्री बनाया गया था।
मंत्रिमंडल के अब तक पांच मंत्री संक्रमित, कमल रानी की मौत
योगी सरकार के मंत्रिमंडल के अब तक पांच मंत्री कोरोना संक्रमित हो चुके हैं। इससे पहले स्वास्थ्य मंत्री जय प्रताप सिंह, खेल मंत्री उपेंद्र तिवारी, कैबिनेट मंत्री राजेंद्र प्रताप सिंह उर्फ मोती सिंह,आयुष मंत्री धर्म सिंह सैनी और होमगार्ड मंत्री चेतन चौहान कोरोना पॉजिटिव पाए गए थे। वहीं, विपक्षी दलों में सपा के एमएलसी और प्रवक्ता सुनील सिंह यादव, विधानसभा में विपक्ष के नेता राम गोविंद चौधरी भी कोरोना पॉजिटिव मिल चुके हैं। राज्य में अब तक 89,711 संक्रमित मिल चुके हैं। राज्य में अब 1677 संक्रमितों की मौत हुई है। राज्य में 36,037 एक्टिव मरीज हैं।

No comments

Post a Comment

Don't Miss
© all rights reserved
Managed By-Indevin Infotech-Leading IT Company