Responsive Ad Slot

देश

national

राम रहे थे तब भी मौन - पंकज त्रिपाठी

Wednesday, August 5, 2020

/ by Dr Pradeep Dwivedi

कण कण में बसने वाले
सकल विश्व के पालनहार बने हैं
अभिवादन से लेकर स्वर्ग गमन तक
राम यूँ ही नहीं हर मुख के उदगार बने हैं

राम के जैसा कौन हुआ है
अब आगे होगा भी कौन
राजा से जब बने तपस्वी
राम रहे थे तब भी मौन 
कैकेयी जैसी निष्ठुर को भी
माँ की संज्ञा दे आऐ थे
पिता वचन के रखने को 
वो राम ही थे जो वन आऐ थे
पुरुषोत्तम है वो, रामायण के सार बने हैं
राम यूँ नहीं हर मुख के उदगार बने हैं

राम को काल्पनिक कहने वालों
कुछ अपना भी पता लगा लो
राम नही होते तो तुम कैसे होते
वृक्ष विहीन धरा के जैसे होते
पुरूषार्थ मनुष्य में कितना होता
राम ने जग को सिखलाया था
परशुराम से रावण तक का 
वो राम ही थे, जिनका दंभ मिटाया था
वो बानर रीछ किरातों के उर के हार बने हैं
राम यूँ ही नहीं हर मुख के उदगार बने हैं

लेखक - पंकज त्रिपाठी
लखनऊ

No comments

Post a Comment

Don't Miss
© all rights reserved
Managed By-Indevin Infotech-Leading IT Company