Responsive Ad Slot

देश

national

आलू की महँगाई से आम जनता परेशान

Thursday, October 15, 2020

/ by Editor

हरिकेश यादव-संवाददाता (इंडेविन टाइम्स)

अमेठी। 

सरकार की बेरूखी ने लोगों की नींद हराम कर दी है। मंहगाई के चपेट में आलू चल रही। इस पर काबू पाने में सरकार असफल साबित हो रही हैं। मंहगाई ने लोगों की कमर तोड़ दी है। अब समय आ गया है कि सरकार को नवरात्र में आलू टक्कर देगी। खाने की आलू चालीस रूपये के पार प्रति किलो बिक्री चल रही है। दो दिन बाद नवरात्र का पर्व शुरू होगा। और आलू छलांग लगाकर पचास रुपये प्रति किलो पहुंच जायेगी। इस मुकाम पर पहुंचने के बाद सरकार को नवरात्र में आलू टक्कर देगी। ऐसी सम्भावना गांव के किसान हरीलाल बनबासी, राम बली यादव, जय करन गिरि, राम नेवाज पाल, मुन्ना लाल कोरी, पवन कुमार भूज, राम करन कश्यप, राम भुवल प्रजापति, कल्लू लोहार, लालता प्रसाद माली, सत्यनारायण मौर्य आदि ने ब्यक्त की है। किसानों का दावा है कि आलू की फसल को जंगली सुअर बर्बाद कर दे रहीं हैं। इस नाते आलू किसान बुवाई करते हैं। लेकिन उत्पादन नहीं मिल पा रहा है। यही नहीं पर्यावरण के असंतुलित होने से जलवायु परिवर्तन हो रहा है। जिससे आलू की पैदावार निरन्तर गिरती जा रही हैं। अबैध कटान पर रोक नहीं लगाई जा रही है। बृक्षारोपण अभियान कागज पर चलाकर प्रदेश सरकार गिनीज बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड में दर्ज करवाने में लगीं। अब आलू नवरात्र में नवदुर्गा के भक्तों को उपवास में गले में निगल पाना मुश्किल भरी बात है। आलू नवरात्र में सरकार को टक्कर देगी। सरकार मंहगाई को किसी हालत में सुधार नहीं कर पायेगी।                        

जिला उद्यान अधिकारी अमेठी डा बलदेव प्रसाद ने बताया कि लांक डाऊन लागू होने से भण्डारण किसान शीत गृहों में नहीं कर सके। और इस दौरान प्रवासी मजदूरों के गांव में आ जाने से आलू को खाने में ज्यादा से ज्यादा प्रयोग किया गया। आलू को जंगली सुअर खूब नुकसान पहुंचा रही हैं। जलवायु परिवर्तन से आलू की उपज प्रभावित हुईं हैं। इस नाते मण्डी में आलू मंहगी है।

No comments

Post a Comment

Don't Miss
© all rights reserved
Managed By-Indevin Infotech-Leading IT Company