देश

national

ग्लेशियर फटने से अबतक 10 लोगों की मौत, 150 लोगों के लापता होने की आशंका

Sunday, February 7, 2021

/ by इंडेविन टाइम्स

उत्तराखंड

उत्तराखंड के चमोली जिले में धौली गंगा, जोशीमठ नदी में बड़े पैमाने पर बाढ़ के कारण रविवार को क्षेत्र में एक ग्लेशियर के टूटने की सूचना मिली। तपोवन क्षेत्र में ऋषिगंगा बिजली परियोजना को भी भारी बाढ़ ने नुकसान पहुंचाया है।

एसएस देसवाल, डीजी, आईटीबीपी ने कहा यह आशंका कि साइट पर लगभग 100-150 कार्यकर्ता थे। जिनमें से 9-10 शव नदी से बरामद किए गए हैं। सर्च ऑपरेशन चल रहा है। 250 आईटीबीपी के जवान मौजूद हैं, भारतीय सेना की टीम जल्द पहुंचने वाली है।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का आया बयान 

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने ट्वीट किया, "उत्तराखंड में दुर्भाग्यपूर्ण स्थिति पर लगातार नजर रख रहा हूं। भारत उत्तराखंड के साथ खड़ा है और देश वहां सभी की सुरक्षा के लिए प्रार्थना करता है। लगातार वरिष्ठ अधिकारियों से बात कर रहा है और एनडीआरएफ की तैनाती, बचाव कार्य और राहत के बारे में अपडेट प्राप्त कर रहा है।

समाचार एजेंसी एएनआई ने बताया कि चमोली जिले में आई बाढ़ में 100-150 लोग हताहत हुए हैं। ये वो लोग है जो ऋषि गंगा पावर प्रोजेक्ट पर काम कर रहे थे। अभी आसपास के गांवों में कितना नुकसान हुआ है उसकी जानकारी नहीं मिली है। 

गृह मंत्री ने उत्तराखंड के मुख्यमंत्री से की बात

गृह मंत्री अमित शाह ने उत्तराखंड के मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत के साथ ही उत्तराखंड के हालात का जायजा लेने के लिए आईटीबीपी के डीजी एसएस देसवाल से बात की है। गृह मंत्री ने एनडीआरएफ के डीजी एसएन प्रधान और आपदा प्रबंधन अधिकारियों से भी बात की।  

गंगा नदी किनारे यूपी के जिलों के लिए अलर्ट

यूपी रिलीफ कमिश्नर ने राज्य के सभी जिलाधिकारियों को एक नोटिस जारी कर 'आपदा अलर्ट' जारी किया है। गंगा नदी के तट पर बसे जिलों को अलर्ट पर रखा गया है। उत्तराखंड में नंदादेवी ग्लेशियर के एक हिस्से के टूटने की रिपोर्ट प्राप्त हुई है। गंगा नदी पर जिलों को हाई अलर्ट पर रहने की आवश्यकता है और जल स्तर की निरंतर निगरानी 24 × 7 करने की आवश्यकता है। नोटिस में कहा गया है  गंगा किनाने के जगहों को  खाली कर दिया गया और सुरक्षित स्थान पहुंचा दिया जाए। एनडीआरएफ, एसडीआरएफ और पीएसी फ्लड कंपनी को उच्चतम अलर्ट पर रहने के निर्देश दिए जा रहे हैं। कृपया स्थानीय स्तर पर भी समन्वय करें। 

राहत बचाव का कार्य जारी 

ITBP की दो टीमें मौके पर पहुंची हैं, NDRF की तीन टीमें देहरादून से रवाना की गई हैं और 3 अतिरिक्त टीमें शाम तक IAF हेलिकॉप्टर की मदद से वहां पहुंचेंगी। एसडीआरएफ और स्थानीय प्रशासन पहले से ही घटनास्थल पर है, "एमओएस होम नित्यानंद राय ने धौलीगंगा में बड़े पैमाने पर बाढ़ पर एएनआई को बताया।

सीएम त्रिवेंद्र सिंह रावत ने ट्वीट किया, "भारी बारिश और अचानक पानी के कारण चमोली के रिनी गांव में ऋषिगंगा परियोजना को नुकसान पहुंचने की संभावना है। नदी में अचानक आने से अलकनंदा के निचले इलाकों में बाढ़ आने की भी संभावना है।" तटीय इलाकों में लोगों को अलर्ट कर दिया गया है। नदी के किनारे बसे लोगों को इलाके से हटाया जा रहा है।" 

एसडीआरएफ अलर्ट पर है। एसडीआरएफ अधिकारी ने कहा है कि  मैं आपसे अनुरोध करता हूं कि अफवाह न फैलाएं। आधिकारिक प्रामाणिकता पर ध्यान दें। केवल जानकारी ही चैनलों पर चलाएं। चमोली पुलिस ने अलकनंदा नदी के किनारे रहने वाले लोगों को जल्द से जल्द सुरक्षित स्थान पर जाने की सलाह दी है। 

हेल्पलाइन नंबर भी जारी किया है। सीएम ने जारी किए हेल्पलाइन नंबर- 1070 और 9557444486

सूत्रों का कहना है कि जोशीमठ क्षेत्र से 26 किलोमीटर दूर रेनी गांव के पास कई लोगों के मारे जाने की आशंका है। बचाव के लिए सैकड़ों भारत-तिब्बत सीमा पुलिस (ITBP) के जवान लगे हुए हैं। 

सीएम त्रिवेंद्र सिंह रावत ने भी हालात का जायजा लिया है। उन्होंने ट्वीट किया, "चमोली जिले से एक आपदा की सूचना मिली है। जिला प्रशासन, पुलिस विभाग और आपदा प्रबंधन को इस आपदा से निपटने का आदेश दिया गया है। किसी भी तरह की अफवाहों पर ध्यान न दें। सरकार सभी आवश्यक कदम उठा रही है।" 

Don't Miss
© all rights reserved
Managed By-Indevin Group