देश

national

राष्ट्रीय अन्नदाता यूनियन ने केन्द्र सरकार द्वारा लागू तीनों कृषि सुधार कानूनों (बिलों) का किया समर्थन

Sunday, February 7, 2021

/ by Dr Pradeep Dwivedi

इंडेविन न्यूज नेटवर्क

लखनऊ।

 राष्ट्रीय अन्नदाता यूनियन ने केन्द्र सरकार द्वारा लागू तीनों कृषि सुधार कानूनों (बिलों) का समर्थन करते हुए कृषि बिलों को यथावत रखने की मांग की है, राजधानी लखनऊ के होटल चरण में आयोजित प्रेसवार्ता में राष्ट्रीय अन्नदाता यूनियन के नेताओं ने एक स्वर में कृषि कानूनों को लेकर भ्रामक विवाद की कड़े शब्दो में निंदा की एवं केन्द्र सरकार से तथाकथित किसान संगठनों एवं उनके नेताओं पर प्रतिबन्ध लगाने की मांग की। प्रेसवार्ता को संबोधित करते हुए राष्ट्रीय अन्नदाता यूनियन के राष्ट्रीय अध्यक्ष राम निवास यादव ने कहा कि अराजकतावादी तथाकथित किसान संगठन व उनके नेता किसानों के नाम पर कृषि बिलों के खिलाफ लगातार दुशप्रचार कर देश में अराजकता फैलाने का काम कर रहे है, राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली की सीमाओं पर जबरन कब्जा कर, 26जनवरी गणतंत्र दिवस पर राष्ट्रध्वज तिरंगे का अपमान कर, सुरक्षाबलों पर हिंसक हमले कर, चक्का जाम कर ये हिंसक अराजकतावादी किन किसानों का भला करना चाहते है समझ से परे है। किसान के नाम पर राजनीति चमकाने वालों के खिलाफ देश का अन्नदाता उठ खड़ा हुआ है। कृषि सुधार कानूनों (बिलों) से मिलने वाले फायदों को लेकर देश का अन्नदाता उत्साहित है। अन्नदाता इन तीनों कृषि सुधार कानूनों (बिलों) की अपनी वास्तविक आजादी का प्रतीक मान रहा है। आजादी के 70वर्षों में पहली बार यदि केन्द्र की किसी सरकार ने खेत, खिलहान, किसान को केन्द्र बिन्दु मान कर योजनाएं बनाई है, तो केवल नरेन्द्र मोदी जी की सरकार ने बनाई। दुर्भाग्य से देश के कुछ विपक्षी राजनेता और दल भी इस तथाकथित किसान आंदोलन के बहाने खोई राजनैतिक जमीन को तलाशने में लगे है और अराजकतावादियों के मनोबल को बढाने का काम कर रहे है। इस तथाकथित किसान आंदोलन की आड़ में भारत के खिलाफ देश के दुश्मनों }kरा षडयंत्र रचे जा रहे है। जो भारी चिंता का विषय है। सच्चा किसान कभी इस प्रकार के राष्ट्रद्रोह को स्वीकार नही कर सकता। राष्ट्रीय अन्नदाता यूनियन इन नकली किसान संगठनों एवं इनके नेताओं के खिलाफ लगातार रचनात्मक आंदोलन जारी रखेगी। प्रेसवार्ता में राष्ट्रीय अन्नदाता यूनियन }kरा राट्रव्यापी पोस्टर अभियान का प्रारम्भ करने हेतु पोस्टर जारी किया गया। पोस्टर में केन्द्र सरकार से 5 बिन्दुओं को लेकर मांग की गयी है कि 1-संसद }kरा पारित तीनों कृषि सुधार कानूनों (बिलों) को यथावत रखा जाए। 2-गणतंत्र दिवस के अवसर पर लाल किले की प्राचीर पर लगे राष्ट्रध्वज तिरंगे को अपमानित करने वालों की सम्पत्ति जब्त की जाए एवं सरकारी सम्पत्ति नष्ट करने से हुए नुकसान की भरपायी उक्त अराजकतावादियों से की जाए। साथ ही पुलिस एवं सुरक्षाबलों पर हमला करने वालों से घायल सुरक्षाबलों का चिकित्सा खर्च वसूल किया जाए। 3-अराजकतावादी तथाकथित किसान संगठनों पर प्रतिबंध लगा कर उनके नेताओं को जेल को भेजा जाए। 4-संसद }kरा पारित कृषि सुधार कानूनों से कृषि और किसान को होने वाले क्रांतिकारी लाभों से परिचित कराने के लिए देश भर से प्राख्यात कृषि विशेषज्ञों को लेकर उनकी उच्च स्तरीय कमेटी बनाकर रिपोर्ट जारी करवायी जाय। 5-राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली के विभिन्न बाँर्डरो पर जबरन कब्जा जमाये बैठे तथाकथित किसान संगठनों एवं नेताओं से बाँर्डर खाली करवाकर आवागमन सुचारू किया जाए कल राष्ट्रीय अन्नदाता यूनियन के नेता रोहित जायसवाल एवं आचार्य पुष्पेन्द्र जी के नेतृत्व में प्रयागराज के माघ मेला में मछली बन्दर मठ में संतों का आशिर्वाद लेकर राष्ट्रीय अन्नदाता यूनियन एवं अखिल भारतीय संयुक्त धर्माचार्य मंच }kरा कृषि बिल के समर्थन में जुलूस निकाल कर धन्यवाद प्रस्ताव प्रधानमंत्री जी को भेजा जायेगा। प्रेसवार्ता में महामंत्री अवधेश प्रताप सिंह, वीरेन्द्र कुमार रावत, उपाध्यक्ष राज कुमार लोधी, बलीराम वर्मा, मोहम्मद खलील अहमद, अनिल जायसवाल, डा0 अनूप सिंह, मूलचन्द्र यादव, लवकुश यादव, अजीत सिंह यादव गाजीपुर, यशवंत यादव बाराबंकी, राम नरेश वर्मा सीतापुर, आलोक बाजपेयी हरदोई, विमल यादव।

No comments

Post a Comment

Don't Miss
© all rights reserved
Managed By-Indevin Infotech-Leading IT Company