Responsive Ad Slot

देश

national

वर्तमान परिवेश में आवश्यक वाटर हार्वेस्टिंग सिस्टम- डॉक्टर हरिकृष्ण

Wednesday, February 17, 2021

/ by Editor

 हरिकेश यादव -संवाददाता (इंडेविन टाइम्स)

अमेठी ।

० भूगर्भ जल स्तर का  तेजी के साथ गिरना चिंता का विषय -पी लाल

जल शक्ति अभियान के अन्तर्गत नेहरू युवा केन्द्र अमेठी द्वारा कैच द रेन परियोजना के तहत वाटर हार्वेस्टिंग एवं भूगर्भ जल स्तर के विषय पर एक वेबीनार का आयोजन किया गया । 

भूमि संरक्षण अधिकारी डा0 हरि कृष्ण मिश्र ने कहा कि वाटर हार्वेस्टिंग की योजना वर्तमान परिवेश में आवश्यक हो गया है । खेत का पानी खेत में, गाॅव का पानी गाॅव में तथा शहर का पानी शहर में रोककर पानी का संचय किया जा सकता है,। फसलों के चयन के साथ, खेत-तालाब योजना  से भू-जल स्तर को उठाया जा सकता है।

सहायक अभियन्ता सिंचाई पी0 लाल यादव ने वाटर हार्वेस्टिंग एवं भूगर्भ जल स्तर की विस्तृत जानकारी देते हुए कहा कि भूगर्भ जल स्तर का  तेजी के साथ गिरना चिंता का विषय है, आज बरसात का पानी धरती के पेट में न जाके बह जा रहा है ।आवश्यकता इस बात की है कि स्थानीय समाज एवं युवा वर्ग पानी संचयन कार्य में जुड कर कार्य करें।

अमेठी जल बिरादरी के संयोजक डा0अर्जुन पाण्डेय ने कहा कि आज हमे रेन वाटर हार्वेस्टिंग के साथ भूगर्भ जल स्तर को समझने की जरूरत है । पहले का समाज पारंपरिक विधियों जीव-जन्तुओं एवं वनस्पतियों के द्वारा आसानी से अपने भूगर्भ जल स्तर का आकलन आसानी से कर लेते थे। आज इसके लिए जी0पी0एस0 एवं सैटेलाइट का सहारा लिया जा रहा है। जनपद में भादर ब्लाक का जल स्तर सबसे नीचे जा चुका है ।

जनपद का औसत जल स्तर 40 फीट के नीचे है भूगर्भ जल में आरसैनिक एवं फ्लोराइड का बढना तपेदिक के साथ त्वचा एवं श्वसन संबन्धी रोग तेजी के साथ हो रहे है। इस समस्या का समाधान स्थानीय स्तर पर भूजल स्तर को ऊपर उठाकर ही किया जा सकता है। 

समाज शास्त्री डा0धनन्जय सिंह ने कहा कि भू जल स्तर का निरन्तरता नीचे की ओर जाना गम्भीर चिन्ता का विषय है । एक रिपोर्ट के अनुसार 2050 तक लगभग छ अरब लोगो को पीने का पानी नही मिलेगा ।  आज के तीन दशक पूर्व जल स्तर कुएॅ, तालाब एंव नदियांें लबालब भरे रहते थे। बोतल बन्द कम्पनियों एवं समरसिबल के द्वारा जल का दोहन निरन्तर किया जा रहा है रेन वाटर एण्ड रूफ वाटर  हार्वेस्टिंग  के माध्यम से पानी का संचयन कर धरती के पेट भरने का काम असानी से भरा जा सकता है।

नेहरू युवा केन्द्र अमेठी की जिला युवा अधिकारी डा0आराधना राज ने सभी का आभार व्यक्त करते हुए कहा कि कैच द रेन परियोजना के माध्यम से इस योजना को जनपद के गाॅव स्तर पर युवा एवं जागरूक समाजसेवी तथा समाजिक संगठन के द्वारा धरातल पर उतारने का संकल्प लेना आवश्यक है जिससे ,खेत किसान खुशहाली प्राप्त कर सके।

No comments

Post a Comment

Don't Miss
© all rights reserved
Managed By-Indevin Infotech-Leading IT Company