Responsive Ad Slot

देश

national

योगी ने किया बांके बिहारी मंदिर में दर्शन, 411 करोड़ की 95 योजनाओं की सौगात दी

Sunday, February 14, 2021

/ by Editor

मथुरा

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ रविवार को कान्हा की नगरी मथुरा के दौरे पर पहुंच गए हैं। मुख्यमंत्री ने हेलीपैड पर उतरने के बाद सबसे पहले बिहारी जी का दर्शन किया। दर्शन-पूजन के बाद वह ज्ञानानंद महाराज से और संत समाज के लोगों से मुलाकात करने के लिए रवाना हो गए। इससे पहले सीएम ने कहा कि दिल्ली की सरकार अपने क्षेत्र में यमुना को शुद्ध कर ले बाकी की जिम्मेदारी हमारी है। हम यमुना के जल को केवल स्नान नहीं आचमन करने लायक बनाना चाहते हैं। हम ब्रज क्षेत्र को रोजगार दिलाने और यहां की पहचान कराना चाहते हैं। इसके परिणाम तीन साल में प्राप्त होंगे।

411 करोड़ की योजनाओं की सौगात दी

कान्हा की नगरी वृंदावन को 411 करोड़ की योजनाओं की सौगात देने पहुंचे मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने दिल्ली की आप सरकार को भी जवाब दिया। वृंदावन में बने कुंभ पूर्व वैष्णव बैठक स्थल पर अपने संबोधन में उन्होंने कहा कि दिल्ली सरकार अपने क्षेत्र की यमुना को साफ कर ले। बाकी की जिम्मेदारी हमारी। हमारी चिंता न करे।

उन्होंने आगे कहा कि कोरोना के समय द्वंद्व था हम त्योहार मनाएं या जान बचाएं। 12 साल बाद कुम्भ पूर्व वैष्णव बैठक का अवसर आया है। आज भाजपा की सरकार है तो इसी भावना के अनुरूप आयोजन हो जैसा प्रयागराज में हुआ था। आस्था के बारे में जानकारी लेनी हो तो ब्रज क्षेत्र से ज्यादा कहीं नही मिलती। प्रयागराज कुम्भ क्यों दुनिया मे विशिष्टता के साथ देखा जाता है। हमने नए सिरे से मानक तय किये।

यूनेस्को ने भी कुंभ को विरासत माना

योगी ने कहा कि यूनेस्को को भी कहना पड़ा प्रयागराज कुंभ एक विरासत है। सीएम ने कहा कि आज हम 5 हजार साल की विरासत सामने रखेंगे तो दुनिया के पास नही है। हमें अपनी संस्कृति पर गर्व की अनुभूति करनी चाहिए। हमें इस ब्रज क्षेत्र को नई पहचान देनी होगी। गो सेवा की पहचान बननी चाहिए। वास्तव में यमुना के साथ श्री कृष्ण और हम सबकी स्मृति जुड़ी हैं।हमें यमुना की निर्मलता के लिए कार्य करना है। कभी कानपुर में 14 हजार लीटर सीवेज गंगा में गिरता था। अब नहीं गिरता।

योगी ने कहा कि जहां सुचिता होगी वहां स्वतः ईश्वर का वास होगा। संबोधन के बाद मुख्यमंत्री ने 411 करोड़ की योजनाओं का शिलान्यास किया और फिर सीधे देवराहा बाबा घाट का लोकार्पण करने के लिए निकल गए।

वृंदावन में 16 फरवरी को होगी वैष्णव संतों की बैठक
वृंदावन परिक्रमा मार्ग को सजाने-संवारने के काम में छत्तीसगढ़, पंजाब और नागपुर के युवा कलाकार जुटे हुए हैं। इन कलाकारों ने पेड़ों पर कृष्णलीला से जुड़ी तस्वीरें बनाई हैं, जो परिक्रमा मार्ग पर गुजरने वालों को आकर्षित कर रही हैं।

16 फरवरी से तीर्थनगरी वृंदावन में वैष्णव संतों की कुंभ बैठक होने जा रही है। इससे पूर्व 14 फरवरी को मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ भी यहां आ रहे हैं. इसके लिए वृंदावन को सजाने-संवारने का काम बड़े स्तर पर किया जा रहा है।

No comments

Post a Comment

Don't Miss
© all rights reserved
Managed By-Indevin Infotech-Leading IT Company