देश

national

मनाया गया विश्व जल दिवस

हरिकेश यादव-संवाददाता (इंडेविन टाइम्स)

अमेठी। 

फ़ोटो-जल दिवस पर रैली निकालते छात्र
विश्व जल दिवस के अवसर पर छात्र छात्राओं ने रैली निकाल आम जनमानस को जागरूक किया।छात्रों को संबोधित करते हुए डा0 अर्जुन पाण्डेय ने  कहा कि जल दर्शन भारतीय दर्शन का प्रधान अंग है। कोई भी कर्मकाण्ड जल के बिना नहीं होता है। जल ईश्वर की पहली रचना है जन्म से लेकर मृत्यु पर्यन्त तक जीवों एवं वनस्पतियों के जीवन का आाधार है। पंच भौतिक तत्वों में भूमि,जल,वायु, अग्नि,गगन का अस्तित्व जल पर टिका हुआ है।  यदि जल सुरक्षित है तो जीवन की अपार  संभावनाएं हैं । हमें जल दर्शन समझने की जरूरत है।

प्रोफेसर  डाॅ धनन्जय सिंह ने कहा कि आज पानी को लेकर  इराक,टर्की आदि देशों में युद्ध छिड चुका है। भारत में राजस्थान के साथ तमिलनाडु,कर्नाटक,मध्यप्रदेश एवं उडीसा आदि राज्य जल के संकट से जूझ रहें है। ग्वालियर को तीसरे दिन, शिमला को चौथे दिन उधार का पानी मिल रहा है । जल का संकट हमारे सिर पर है। यदि समय रहते हम सचेत न हुए तो वह दिन दूर नही कि आम जन एक-एक बूॅद पानी के लिए मोहताज होगा। जल आज बाजार की वस्तुु बनकर रह गया है।   

कार्यक्रम की  अध्यक्षता करते हुए  डाॅ आराधना राज ने कहा कि जल है तो कल है । कल के लिए आज बचाना होगा जल। वर्षा के जल को धरती के पेट में डालकर जल के गंभीर संकट से बचा जा सकता है। यदि जीवों एवं वनस्पतियों को जीवित रखना है तो जल संचयन जरूरी है। नदियोें तालाबों,पोंखरों के अस्तित्व को कायम रखने के लिए राज एवं समाज को जागरूक होने की जरूरत है। जल दोहन को कम करना होगा। इस अवसर पर विद्यालय के सैकड़ों छात्र छात्राएं मौजूद रहे।

No comments

Post a Comment

Don't Miss
© all rights reserved
Managed By-Indevin Group