देश

national

'रामसेतु' में पुरातत्वविद की भूमिका के लिए तैयार अक्षय, 'साइना' बनी अपवाद!

Wednesday, April 7, 2021

/ by Dr Pradeep Dwivedi

 इंडेविन न्यूज नेटवर्क

पूरे देश में कोविड के मामलों में फिर बढ़ोतरी हो रही है। इससे पूरा सप्ताह तनाव भरा रहा है। और महाराष्ट्र जहां सिनेमा हॉल्स को पूरी तरह खोले जाने की तैयारी कर ली गई थी, वहां अचानक लॉकडाउन की आहट सुनाई देने लगी है। इससे पहले थिएटर मालिकों ने मिलकर फिल्म निर्माताओं पर फिल्में ओटीटी प्लेटफॉर्म्स पर रिलीज नहीं करने का दबाव बनाया था। कुछ राजी भी हुए। उदाहरण के लिए राजकुमार राव- जाह्नवी कपूर स्टारर 'रूही'। आश्चर्यजनक रूप से इस फिल्म ने बॉक्स ऑफिस पर भी कमाल दिखाया है। दो सप्ताह में ही इसने 22 करोड़ रुपए का कलेक्शन कर लिया। उधर, 'संदीप और पिंकी फरार' को हालांकि तारीफ तो खूब मिली, लेकिन दुर्भाग्य से सिनेमा हॉल खाली मिले।

इसलिए इस बात पर अचरज नहीं होना चाहिए कि 'हाथी मेरे साथी' जैसी बहुप्रतीक्षित मूवी की रिलीज टाल दी गई है। हालांकि आनंद पंडित ने 'चेहरे' को निर्धारित समय पर यानी अप्रैल के अंत में ही रिलीज करने का फैसला लिया है। इस फिल्म के निर्देशक रूमी जाफरी इस बात के लिए खुद को काफी भाग्यशाली मानते हैं कि उन्हें अमिताभ बच्चन के साथ काम करने का मौका मिला। 'बड़े मियां छोटे मियां' के लेखक के तौर पर तो 'गॉड तुस्सी ग्रेट हो' के निर्देशक के तौर पर। जाफरी का मानना है कि अमिताभ बच्चन के साथ काम करना सबसे आसान रहता है। काम करने के दौरान वे अपने आसपास मौजूद हर शख्स को बड़ा ही सहज महसूस करवाते हैं। यह पहला मौका है जब अमिताभ और इमरान हाशमी साथ काम कर रहे हैं।

इधर साइना नेहवाल का पूरा परिवार अमोल गुप्ते की 'साइना' देखने के बाद से ही बहुत आल्हादित है। यह मूवी सिनेमा हॉल्स में रिलीज हुई थी और जल्दी ही अमेजन प्राइम पर भी आने वाली है। किसी बायोपिक से पूरी तरह से संतुष्ट होना मुश्किल होता है। लेकिन 'साइना' इस मामले में अपवाद है। साइना की मां ऊषा रानी ने परदे पर साइना की मां की भूमिका निभाने वाली मेघना मलिक को फोन कर उनके काम की दिल खोलकर सराहना की। साइना की मां ने मेघना से कहा भी कि आपके हर हाव-भाव और संवाद की अदायगी से ऐसा लग रहा था मानो परदे पर मैं ही खुद को देख रही हूं।

मेघना इस फिल्म से लगभग बाहर ही थीं। जिस समय उन्हें ऑडिशन के लिए बुलाया गया था, उस समय वे मलेरिया से ग्रस्त थीं और इस वजह से शायद अच्छे से परफॉर्म नहीं कर पाई थीं। इसलिए जब ऑडिशन के कई हफ्तों बाद भी उन्हें निर्देशक की तरफ से कोई बुलावा नहीं आया तो वे बहुत निराश हो गईं। उन्हें लगा कि उनके हाथ से यह फिल्म चली गई है जबकि उन्होंने इस भूमिका के लिए काफी मेहनत की थी। तो एक दिन अचानक वे सलवार कुर्ता पहनकर और बालों की चोटी बांधकर वे आवेग में आकर निर्देशक के ऑफिस में बगैर किसी अपाइंटमेंट के पहुंच गई और हरियाणवी बोली में दो-चार डायलॉग पटक दिए। अचानक हुए इस घटनाक्रम से निर्देशक भी हक्का-बक्का रह गए, लेकिन फिर उन्होंने घोषणा कर दी कि 'ऊषा रानी' की भूमिका मेघना ही करेंगी।

करीब एक साल पहले दिवाली पर अक्षय कुमार ने अपनी नई फिल्म 'रामसेतु' की घोषणा करते हुए उसका एक पोस्टर सोशल मीडिया पर शेयर किया था। एक महीने पहले ही अक्षय कुमार मुहूर्त के लिए अयोध्या गए थे। यह एक पुरातत्वविद की कहानी है। फिल्म के निर्देशक अभिषेक शर्मा अलग-अलग जगहों पर इसकी शूटिंग करने की तैयारी कर रहे हैं। वे कहते हैं कि भारत की सांस्कृतिक संरचना के बारे में बताने का यह सबसे सही वक्त है ताकि युवा हमारी विरासत को संभालने का जिम्मा उठाने को आगे आएं। राम सेतु अतीत, वर्तमान और भविष्य को जोड़ने वाला सेतु है। इस फिल्म के क्रिएटिव प्रोड्यूसर का जिम्मा चाणक्य फेम चंद्रप्रकाश द्विवेदी संभाल रहे हैं। इसमें अक्षय कुमार एक पुरातत्वविद की भूमिका निभा रहे हैं। साल 1965 में आई गाइड में दर्शक पहली बार एक पुरातत्वविद (मार्को के रूप में किशोर साहू) से रूबरू हुए थे। अब करीब पांच दशक बाद अक्षय को इस भूमिका में देखना दिलचस्प होगा।

- भावना सोमाया जानी-मानी फिल्म लेखिका, समीक्षक और इतिहासकार हैं।

No comments

Post a Comment

Don't Miss
© all rights reserved
Managed By-Indevin Infotech-Leading IT Company