Responsive Ad Slot

देश

national

घर और दफ्तर में कैसे बिठाएँ सामंजस्य - शालिनी वर्मा

Thursday, June 17, 2021

/ by Dr Pradeep Dwivedi

 इंडेविन न्यूज नेटवर्क

लेखिका - शालिनी वर्मा
दोहा, क़तर


शादी के बाद हर लड़की की जिंदगी में परिवर्तन आते हैं ,कुछ तो बहुत अच्छे से सामंजस्य बिठा लेती हैं पर कुछ की शिकायत रहती है कि जब से शादी हुई है सबके साथ एडजस्ट करने में ही सारी जिंदगी कट रही है। खासतौर से कामकाजी लड़कियां उनको बहुत परेशानी का सामना करना पड़ता है l कितना भी काम कर लो परिवार में कोई न कोई नाराज हो जाता है। घर का काम, ऑफिस का काम, सबके बीच सामंजस्य बिठाते पूरा दिन कट जाता है। इसके बाद भी पता चलता है कि किसी को संतुष्ट नहीं कर पाती l

‘ पूरे दिन काम करते हुए थक जाती हूँ लेकिन लोगों की इच्छाएँ ही नहीं खत्म होती हैं। समझ ही नहीं आता क्या करूँ ’ यह हर कामकाजी लड़की की शादी के बाद समस्या होती है l अधिकतर कामकाजी महिलाओं को इस बात का सामना करना पड़ता है। पूरा दिन कुछ न कुछ करते रहने के बाद आखिर में पता चलता है कि परिवार में कोई ना कोई असंतुष्ट है क्योंकि उनके किसी काम में कोई कमी रह गई थी या कहें कि जानबूझ कर कई बार कमी निकाली गई।

ज्यादातर परिवारों को बहुओं से इतनी उम्मीदें होती हैं कि उन्हें किसी तरह की कोई रियायत दी ही नहीं जाती है और महिलाएं सबको खुश करने की चाह में पिसती चली जाती हैं । पर अगर कुछ ऐसे कदम उठाए जाएँ जिनसे उनका पारिवारिक और कामकाजी जीवन प्रभावित ना हो और  खुशी-खुशी दोनों जगह वे संतुलन बिठा लें l तो आइये जानें ऐसे कुछ कदम जिनसे आप सबके दिलों की रानी बन सकें और अपने आपको भी समय दे पाएँ –

योजना – कभी भी काम समय पर करना हो तो पहले से की गई तैयारी काफी काम आती है। इसके लिए आपको आने वाले हफ्ते की योजना रविवार को ही बना लेनी चाहिए l  इस तरह से कई सारे ऐसे काम आपकी योजना में शामिल कर सकती हैं जो लंबे समय से हो नहीं पा रहे थे। इस तरह पूरे हफ्ते की प्राथमिकता भी तय हो जाती है। अगर आप ज्यादा से ज्यादा काम समय पर कर लेंगी तो पूरे दिन काम समय पर होता रहेगा। आप भी संतुष्ट रहेंगी, दूसरे भी। इस तरह से आपको सारे काम करने का कुछ समय अलग से भी मिल जाएगा।

समय का चुनाव – अपने काम का वह समय चुनिए  जो आपकी पूरी दिनचर्या के हिसाब मेल खाता हो ।  आप अपने और परिवार के सदस्यों की सुविधा देखते हुए समय का चुनाव करें । यदि आपके काम की ओर से आप चिंतामुक्त होंगी तो घर के कामों पर ध्यान दे पाएँगी । इसलिए पूरी कोशिश कीजिए कि ऑफिस के कामों की ओर से आपको किसी तरह का तनाव न हो क्योंकि तनाव बहुत मानसिक दबाव बनाता है और ये दबाव कई सारे काम खराब करता है। आप शांत मन से अपने समय को अपने काम के अनुसार रखिए ।

संबंध

लोगों से अपने संबंध अच्छे रखें l परिवार के सदस्य और मित्र ऐसे रखें  जो आपको ऑफिस के काम और घर दोनों में मदद कर सकते हैं। ऐसे लोग आपके कमजोर पड़ने पर  आपकी मदद करेंगे।  सहयोग की जरूरत सबको पड़ती है इसलिए जरूरी है कि आप ऑफिस के साथ घर में भी सहयोग का वातावरण बना कर रखें । आपको अपनी छवि लोगों के सामने बदलनी होगी क्योंकि यदि छवि नहीं बदलेंगी तो  लोग आपको सहयोग नहीं करेंगे बल्कि परेशान जरूर करेंगे।


दूसरों से सीखें

बुद्धिमान वही होता है जो दूसरों की भूलों को देख कर सीखता है ना की स्वयं भूल करके l अपनी जैसी स्थिति वाली महिलाओं से संपर्क कीजिये क्योंकि उनके अनुभव से आप सीखेंगी । उनके उदाहरण आप को सिखाएँगे कि किस कदम का क्या परिणाम हो सकता है। अगर आप सब कुछ बिना किसी गलती के करना चाहती हैं  तो इन बातों का ध्यान रखिए और देखिये आपकी जिंदगी कितनी आसान हो जाती है l


No comments

Post a Comment

Don't Miss
© all rights reserved
Managed By-Indevin Infotech-Leading IT Company