देश

national

यूपी : सूचना आयुक्त बनाए जाने पर अपने कार्यालय को अपने वेतन से चलायेंगे जितेन्द्र बहादुर सिंह

Tuesday, July 13, 2021

/ by Dr Pradeep Dwivedi

इंडेविन न्यूज नेटवर्क

लखनऊ।

उत्तर प्रदेश के राज्य सूचना आयुक्त के पद पर आवेदन कर सुर्ख़ियों में आये राजधानी लखनऊ के नामचीन समाजसेवी और पत्रकार जितेन्द्र बहादुर सिंह ने एक चौंकाने वाली ऐसी घोषणा कर दी है जिसने उनके व्यक्तित्व के निःस्वार्थ समाज सेवा करने के पहलू को एक बार फिर चर्चा में ला दिया है l

जितेन्द्र बहादुर ने आज सूचना आयुक्त चयन समिति के अध्यक्ष सूबे के मुख्यमंत्री योगी  आदित्यनाथ, चयन समिति के प्रथम सदस्य सूबे के कैबिनेट मंत्री सुरेश खन्ना , चयन समिति के द्वितीय सदस्य और सूबे के नेता प्रतिपक्ष  राम गोविन्द चौधरी के साथ-साथ सूबे की राज्यपाल तथा प्रमुख सचिव  प्रशासनिक सुधार विभाग को पत्र भेजकर अवगत कराया है कि सूचना आयुक्त के पद पर नियुक्त होने पर वे अपने सुनवाई कक्ष और कार्यालय के कर्मचारियों का वेतन भुगतान अपने निजी वेतन से करेंगे। जितेन्द्र ने अपने पत्र में यह भी लिखा है कि उत्तर प्रदेश के सूचना आयोग में स्टाफ की कमी है इसीलिये उन्होंने जनहित में यह निर्णय लिया है कि सूचना आयुक्त के पद पर नियुक्त होने पर वे अपने सुनवाई कक्ष और कार्यालय के कर्मचारियों का वेतन भुगतान अपने निजी वेतन से करेंगे।

उत्तर प्रदेश के राज्य सूचना आयुक्त के पद पर आवेदन करने के दिन से ही  सुर्ख़ियों में चल रहे राजधानी लखनऊ के नामचीन समाजसेवी और पत्रकार जितेन्द्र बहादुर सिंह के इस नई निःस्वार्थ क्रांतिकारी घोषणा ने जितेन्द्र  को सूचना आयुक्त के पद की दौड़ के अन्य दावेदारों के मुकाबले लम्बी बढत दिलाकर एक बार फिर चर्चा में ला दिया है।

जितेन्द्र की आज की घोषणा के बाद राजधानी में चर्चा आम है कि जितेन्द्र अब सूचना आयुक्त के पद के प्रमुख दावेदारों में से एक बन गए हैं।

No comments

Post a Comment

Don't Miss
© all rights reserved
Managed By-Indevin Infotech-Leading IT Company