Responsive Ad Slot

देश

national

लखनऊ: सैटेलाइट इमेज की मदद से कसेगा अवैध निर्माण पर शिकंजा

Sunday, July 4, 2021

/ by Editor

लखनऊ

लखनऊ विकास प्राधिकरण के उपाध्यक्ष अभिषेक प्रकाश ने अवैध कॉलोनियों के खिलाफ सख्त निर्देश जारी किए हैं। इसके तहत अब न सिर्फ अवैध कॉलोनियों के खिलाफ अभियान तेज़ करके करवाई होगी, बल्कि वैध-अवैध कॉलोनियों की पूरी सूची एलडीए की वेबसाइट पर अपलोड की जाएगी। इससे प्लॉट/मकान खरीदने की योजना बना रहे लोग भूमाफिया के चंगुल में फंसने से बच जाएंगे।

इतना ही नहीं एलडीए की तरफ से रजिस्ट्री विभाग को भी अवैध कॉलोनी की सूची मुहैया कराई जाएगी, जिसे रजिस्ट्री कार्यालय के बाहर सूचना बोर्ड पर चस्पा किया जाएगा ताकि संपत्ति की रजिस्ट्री कराने से पहले ही लोग फर्जीवाड़े से सचेत हो जाएं।

रेरा को भी सौंपी जाएगी रिपोर्ट
विकास प्राधिकरण के सचिव पवन कुमार गंगवार ने बैठक में कहा कि सभी अभियंता अपने क्षेत्र में भ्रमणशील रहकर अवैध कालोनियों को सक्रियता से रोकें। उन्होंने कहा की तकरीबन सभी अवैध कॉलोनाइजर्स खुलेआम विज्ञापन देकर अपनी योजना का प्रचार-प्रसार करते हैं। लिहाजा इन विज्ञापनों पर नजर रखते हुए भी कार्रवाई अमल में लाई जाए। उन्होंने कहा कि अवैध कॉलोनी के पनपने की सूरत में उस क्षेत्र के जेई और सुपरवाइजर सीधे तौर पर जिम्मेदार होंगे और उनके खिलाफ करवाई की जाएगी।

उन्होंने बताया कि अवैध कॉलोनियों की पूरी डिटेल रजिस्ट्री विभाग को भी उपलब्ध कराई जाएगी। जिसे रजिस्ट्री कार्यालय के बाहर सूचना बोर्ड पर लगाकर सार्वजनिक किया जाएगा। इसके अलावा अवैध कॉलोनियों के खिलाफ चलाये जाने वाले अभियान की पूरी रिपोर्ट रेरा को भी दी जाएगी।

अवैध कॉलोनाइजर्स के खिलाफ दर्ज होगी एफआईआर
एलडीए उपाध्यक्ष अभिषेक प्रकाश ने अधिकारियों को एक सप्ताह की मोहलत दी है। उन्हें इस अवधि में ज़ोनवार अवैध कॉलोनाइजर की सूची बनाकर रिपोर्ट सौंपनी होगी। फिर इन सभी के खिलाफ संबंधित थानों में सिलसिलेवार मुकदमे दर्ज कराए जाएंगे।

सेटेलाइट इमेज का डाटा संकलित करके होगी कार्रवाई
लखनऊ विकास प्राधिकरण के उपाध्यक्ष अभिषेक प्रकाश के आदेश के तहत अब शहर की सेटेलाइट इमेज का डाटा संकलित करने का काम किया जाएगा। सचिव पवन कुमार गंगवार ने बताया कि अब हर 6 महीने के अंतराल में शहर की गूगल सेटेलाइट इमेज लेकर संकलित की जाएगी। इन तस्वीरों की मदद से अवैध निर्माण व अवैध कालोनियों का पूरा कच्चा चिट्ठा समय रहते ही खुल जाएगा।

वहीं, इससे यह भी तय हो सकेगा की अवैध निर्माण होने के समयकाल में उस क्षेत्र में कौन अभियंता, सुपरवाइजर व संबंधित कर्मचारी तैनात थे। इससे लापरवाह अफसरों के खिलाफ कार्रवाई सुनिश्चित की जा सकेगी। शनिवार को हुई बैठक के दौरान तकनीकी विभाग के अधिकारियों को सेटेलाइट इमेज का डाटा सेव करने की प्रक्रिया तैयार करने के दिशा निर्देश दिए गए हैं।

No comments

Post a Comment

Don't Miss
© all rights reserved
Managed By-Indevin Infotech-Leading IT Company