देश

national

हमारी सरकार ने 2017 के चुनाव संकल्प पत्र के वादों को किया पूरा- सीएम योगी आदित्यनाथ

Wednesday, December 15, 2021

/ by इंडेविन टाइम्स

लखनऊ 

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने बुधवार को अपनी सरकार द्वारा 2017 में किये गये सभी वादे पूरा किए जाने पर जोर देते हुए पिछली समाजवादी पार्टी सरकार पर भर्ती प्रक्रिया में एक विशेष जाति के प्रति विशेष झुकाव का आरोप लगाया।

योगी ने कहा, ‘‘हमारी सरकार ने 2017 में जारी चुनाव संकल्प पत्र में किए गए सभी वादों को पूरा किया है और अब हम 2022 के चुनाव के लिए 'सुझाव आप का संकल्प हमारा' के रूप में सुझाव मांग रहे हैं। यह पहली सरकार है जिसने समय-समय पर अपना रिपोर्ट कार्ड जारी किया और हमने जो वादा किया था, वह पूरा किया है।'' मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने बुधवार को ‘यूपी नंबर एक' अभियान में ''सुझाव आपका संकल्प हमारा कार्यक्रम'' में आकांक्षा पेटी लांच किया। 2022 के विधानसभा चुनाव के मद्देनजर भाजपा (भारतीय जनता पार्टी) प्रदेश के गांव व शहरी क्षेत्रों में तीस हजार स्थानों पर आंकाक्षा पेटी रखेगी और इनके माध्यम से जनता से मिले सुझावों के आधार पर संकल्प पत्र तैयार किया जाएगा।

कार्यक्रम को संबोधित करते हुये मुख्यमंत्री ने कहा, ''2017 में भाजपा ने विधानसभा चुनाव का संकल्प पत्र जारी किया था। हमने घोषणा पत्र से हटकर संकल्प पत्र जारी किया। संकल्प वही जिसका कोई विकल्प नहीं। घोषणाएं सभी करते हैं लेकिन वे अपने आप ही कालातीत हो जाती हैं। संकल्प वह है जिसे हम मंत्र मानते हुए अपने जीवन का हिस्सा मानते हुए उसे लागू करते हैं। संकल्प लोककल्याण का माध्यम है। संकल्प व्यक्ति के लिए नहीं राष्ट्र कल्याण के लिए लिया जाता है। सरकार के बनने के बाद जो संकल्प हमने लिया था उसे जीवन का व्रत मान कर पूरा किया। अब 2022 के लिए ‘सुझाव आपका संकल्प हमारा' के साथ हम फिर आए हैं। हमने 100 दिन में अपनी सरकार का रिपोर्ट कार्ड जारी किया था। फिर छह महीने, एक साल, दो साल, तीन साल और चार साल पर भी ऐसा ही किया।'' पूर्ववर्ती सपा नीत सरकार पर जाति विशेष के प्रति पक्षपाती होने का आरोप लगाते हुये, योगी ने कहा कि 2017 से पहले सभी भर्तियां विवादास्पद थीं, जबकि उनकी सरकार ने पूरी पारदर्शिता के साथ 4.5 लाख से अधिक युवाओं को सरकारी नौकरी दी है।

उन्होंने कहा कि पहले नियुक्तियों में जातिवाद-भाई-भतीजावाद हावी था। पहले नौकरी निकलते ही महाभारत काल दिखने लगता था। एक ही परिवार के चाचा-भतीजा, काका-काकी, मामा-मामी सभी वसूली के लिए निकल पड़ते थे। नियुक्तियों में किस तरह जातिवाद-भाई भतीजा वाद होता था। 2015 की सपा सरकार में डिप्टी कलेक्टर का रिजल्ट निकलाथा तब आपने देखा होगा कि कैसे 86 में से 56 लोगों के नाम जाति विशेष के थे। पूर्ववर्ती सपा सरकार पर हमलावर होते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि फर्क साफ है केवल सरकार बदली है यह प्रदेश वही है। आज बिना भेदभाव के नियुक्तियां हो रही हैं। केन्द्र की लगभग 50 योजनाओं में प्रदेश नम्बर एक पर है। उन्होंने कहा कि गन्ना किसानों का दस साल पुराना दाम मिलों के पास बकाया था। हमने प्रदेश में न्यूनतम समर्थन मूल्य किसानों को मिल सके इसके लिए रिकार्ड संख्या में क्रय केंद्रो की स्थापना की।

बंद चीनी मिलों को चालू कराने काम किया। उन्होंने कहा कानून व्यवस्था पर पिछली सरकारों का रिकार्ड किसी से छुपा नहीं है। पहले मां-बाप को चिंता थी कि बेटी को स्कूल कैसे भेजेंगे? किसानों को चिंता थी कि उनका पशुधन सुरक्षित कैसे रह पाएगा। 2017 के बाद बेटियां सुरक्षित हुई हैं, दंगों से मुक्ति मिली है। प्रदेश में धूम-धड़ाके के साथ कांवड़ यात्रा निकल रही है, राममंदिर बन रहा है। हर पर्व और त्योहार सौहार्दपूर्ण तरीक से मनाया जा रहा है। 

No comments

Post a Comment

Don't Miss
© all rights reserved
Managed By-Indevin Group