देश

national

मानबिंदु उत्थान समिति के तत्वाधान में महामना मदन मोहन मालवीय की जयंती पर आयोजित हुई शैक्षिक गोष्ठी

Saturday, December 25, 2021

/ by इंडेविन टाइम्स

कौस्तुभ बाजपेई-इंडेविन न्यूज़ नेटवर्क 

महोली- सीतापुर 

भारतरत्न पं. मदन मोहन मालवीय जयंती समारोह के अवसर पर मानबिंदु उत्थान समिति महोली द्वारा आयोजित आध्यात्मिक सभा का आयोजन किया गया। कार्यक्रम का प्रारंभ मालवीय जी के चित्र अनावरण, पुष्पार्चन एवं मंगलगान से किया गया, जिसमे बच्चों द्वारा प्रस्तुतियाँ दी गयी। कार्यक्रम का प्रारम्भ छात्र अंकुर कुमार की सरस्वती वंदना के साथ हुआ। तत्पश्चात सुधीर मिश्र ने भजो रे राम गोविंद हरी और गीत लहर लहर लहराए रे मेरे आंगन की तुलसी, बृजकांत बाजपेयी ने लगा चुनावी मौसम तो नेता दौड़न लागे,मेरे कश्मीर मेरी जान,निर्वाण तिवारी ने मेरे प्यारे वतन का पाठ ,विमलेश बाजपेयी ने यूं अगर आप मोहन मुकर जायेगे तो भला हम से पापी किधर जायेगें, अरुण मिश्र ने भाव शून्य हो चुके जहां में भाव जगा कर जाऊंगा, दारु के बोतल के बदले वीरों के बलिदानों का सम्मान नहीं मिटने दूँगा।श्रीधर मिश्र ने उठो उठो हे आर्यवीर, उठो धर्म की आभा देखो,बाल गोविंद द्विवेदी ने सिसक रही है गंगा मइया,कमलेश ने रोम रोम में बसने वाले, अवधेश मिश्रा ने  गो सेवा  ईश्वर की सेवा गीत गाया। कार्यक्रम में छात्र अस्मित ने मालवीय जी का चित्र बनाकर अतिथि को भेंट किया।

ज्ञात हो समिति अपना 29वाँ वार्षिकोत्सव मना रही है. आज के दिन ही पूर्व प्रधानमन्त्री भारतरत्न श्री अटल बिहारी बाजपेयी जी, प्रसिद्ध वैज्ञानिक न्यूटन एवं ईसा मसीह का भी जन्मदिन है कार्यक्रम में उनके भी जीवन पर प्रकाश डाला गया। 

कार्यक्रम में मुख्य अतिथि श्री रजनीश मिश्र,मुख्य उद्बोधक पूर्व प्रधानाचार्य डॉ दयानन्द शुक्ल, कार्यक्रम की अध्यक्षता पूर्व प्रधानाचार्य रामबाबू द्विवेदी ने किया। डॉ दयानन्द शुक्ल ने महामना शब्द की महिमा का बखान किया उन्होंने किया मालवीय जी और अटल जी दोनों चिर काल तक प्रासंगिक रहेंगे।कार्यक्रम का संचालन शांतनु दीक्षित ने किया।

आयोजित  गोष्ठी में अध्यापक अतन शुक्ल ने कठपुतली के माध्यम से मालवीय जी के व्यक्तित्व एवं कृतित्व पर प्रकाश डाला।

कार्यक्रम का समापन संरक्षक ख्याति प्राप्त दन्त चिकित्सक डॉ हर्षवर्धन शुक्ल द्वारा आभार प्रदर्शन एवं जलपान से किया गया।

उक्त समारोह में डॉ प्रेम शंकर गुप्त, शिवबरदानी शुक्ल, अशोक दीक्षित, सचेन्द्र मिश्र, सतीश त्रिवेदी, कौस्तुभ बाजपेयी,मनमोहन अवस्थी,देवेंद्र कुमार,संतोष गुप्ता, कृष्ण मोहन पांडेय,नीरज बाजपेयी, राजीव अग्निहोत्री, राधा कृष्ण शुक्ल, अशोक दीक्षित,अम्बुज,अंचित बाजपेयी समेत अनेकों विद्वान,काव्य एवं साहित्य प्रेमी प्रमुख रूप से उपस्थित रहे।

No comments

Post a Comment

Don't Miss
© all rights reserved
Managed By-Indevin Group