देश

national

अमेठी की 22 ग्राम पंचायतों को सुलतानपुर जिले में शामिल करने को लेकर फिर शुरू हुआ जन आंदोलन

Sunday, December 26, 2021

/ by इंडेविन टाइम्स

० विधानसभा चुनाव की सुगबुगाहट को लेकर जिला परिवर्तन समिति का आंदोलन हुआ तेज

० जिला परिवर्तन समिति का संकल्प,मांगे पूरी न हुई तो मतदान का होगा बहिष्कार

हरिकेश यादव-संवाददाता (इंडेविन टाइम्स)

अमेठी।

विधानसभा चुनाव की अधिसूचना जारी होने से पूर्व ही अमेठी विधानसभा क्षेत्र के पूर्वी इलाके आंचल में जिला परिवर्तन को लेकर एक बार फिर आंदोलन शुरू हो गया है।

जिला परिवर्तन समिति आसल ने प्रयागराज-अयोध्या राष्ट्रीय राजमार्ग एवं प्रयागराज अयोध्या रेलमार्ग से जुड़ी अमेठी जिले के विकास खण्ड भादर की 22 ग्राम पंचायतों को पूर्ववर्ती सुलतानपुर जिले में शामिल करवाने को लेकर रविवार की दोपहर एक आपात बैठक की गई,जिसमे एकत्रित पंचायत प्रतिनिधियों व नागरिको ने पूरे कस्बे में जुलूस निकालकर जिला परिवर्तन करने की मांग को जन आंदोलन का रूप दे दिया है। बैठक के दौरान जिला परिवर्तन समिति ने यह संकल्प लिया कि सभी ग्राम पंचायतों में नागरिकों से संपर्क कर उन्हें आंदोलन से जोड़ने का काम किया जाएगा।

जिला परिवर्तन समिति के संयोजक प्रेम नारायण पाण्डेय ने बैठक के दौरान अपने संबोधन में कहा कि अमेठी की सांसद एवं विधायक द्वारा चुनावों में वादा करने और उसके बाद उससे मुकर जाने के कारण जिला परिवर्तन समिति ने जिला परिवर्तन के मुद्दे को जन आंदोलन बनाए जाने का संकल्प लिया है।

उन्होंने कहा कि  प्रयागराज-अयोध्या राष्ट्रीय मार्ग एवं प्रयागराज अयोध्या रेलमार्ग के आसपास स्थित 22 ग्राम पंचायतों की दूरी अमेठी के जिला मुख्यालय गौरीगंज से 45 से 65 कि0मी0 है, जबकि ये सभी ग्रामसभायें पूर्ववर्ती सुलतानपुर जिला मुख्यालय से मात्र 10 से 20 कि0मी0 की दूरी पर स्थित है।अमेठी जिले के अन्तिम छोर के इन गांवों के लोग जिले के गठन के समय से ही अपनी इस गम्भीर समस्या को लेकर निरन्तर संघर्षरत हैं।

संयोजक  पांडे ने बताया कि बताया कि अमेठी के इन ग्राम पंचायतों को पूर्ववर्ती सुलतानपुर जिले से पुनःजोड़ने के लिए राजस्व विभाग/राजस्व परिषद से प्रस्ताव लेकर उ.प्र. कैबिनेट को मंजूरी देनी होगी,जिसके बाद अधिसूचना जारी होने के साथ ही यह ग्राम सुलतानपुर से जुड़ जायेंगे।इसमें शासन का कोई व्यय नही होगा,क्योंकि किसी नई तहसील या ब्लाक का निर्माण नही होना है।इन ग्रामों को शासन सुविधानुसार सुलतानपुर जिले की सदर या फिर लम्भुआ तहसील और दुबेपुर या भदैया ब्लाक से जोड़ सकता है।

बैठक में भट्ठा व्यवसायी हरिभजन सिंह ने कहा कि जिला परिवर्तन की मांग को यदि शासन ने नहीं स्वीकार किया तो क्षेत्र के लोगों को मजबूरन न्यायालय का सहारा लेना पड़ेगा,उन्होंने कहा कि पिछले चुनाव में चुनी गई सांसद व विधायक ने जिला परिवर्तन कराने का वादा किया था इसके बावजूद भी सरकार के 5 वर्ष पूर्ण होने के बाद भी क्षेत्र की जनता की मांग पर सत्तासीन लोगों ने कोई विचार नहीं किया। महेश नारायण सिंह ने कहा कि वादाखिलाफी करने वाले जनप्रतिनिधियों को आगामी चुनाव में जनता करारा जवाब देगी। व्यापारी नेता धर्म प्रकाश गुप्ता ने कहा कि हमारी मांग को दरकिनार किया जा रहा है ।रामचंद्रपुर के ग्राम प्रधान उदल यादव ने कहा कि वह और उनके गांव की जनता समिति के साथ हर स्तर पर तैयार है।

विनोद सिंह ने कहा कि हमें अपना आंदोलन संवैधानिक रूप से करना है, हमारी मांग भले ही देश से पूरी हो लेकिन हमें अपना हर काम कानून के दायरे में ही करना है। बैठक का संचालन करते हुए शिक्षक बच्चा राम वर्मा ने कहा कि जनशक्ति से बड़ा दुनिया में कुछ भी नहीं है,यदि हमारा जुनून इसी तरह से कायम रहा तो निश्चित रूप से हमें सफलता मिलेगी।

बैठक में कमला प्रसाद मिश्रा, मारकंडेय सिंह, डॉ कुलदीप सिंह, मनोज अग्रहरि, गंगा राम गुप्ता, हरिश्चंद्र विश्वकर्मा, ,संतोष गुप्ता,उमाशंकर तिवारी,रामसेवक विश्वकर्मा,  छीड़ा ग्राम प्रधान विनोद कनौजिया ने भी अपने विचार व्यक्त किए।



No comments

Post a Comment

Don't Miss
© all rights reserved
Managed By-Indevin Group