देश

national

अजीत डोभाल से मिलने दिल्ली पहुंचे चीनी विदेश मंत्री

नई दिल्ली। 

राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोभाल ने चीन के विदेश मंत्री वांग यी से दो टूक कहा कि जब तक सीमावर्ती क्षेत्रों में से चीनी सेना नहीं हटाई जाएगी, तब तक दोनों देशों के बीच कोई बात नहीं हो सकती है। सरकारी सूत्रों ने कहा कि भारत और चीन ने चीनी विदेश मंत्री वांग यी और राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोभाल की बैठक में यह सुनिश्चित किया है कि दोनों देशों की कार्रवाई समान और आपसी सुरक्षा की भावना का उल्लंघन न करे। सूत्रों ने कहा कि दोनों एशियाई पड़ोसियों ने भी एक ही दिशा में काम करने और बकाया मुद्दों को जल्द से जल्द हल करने के लिए सहमति व्यक्त की। 

नई दिल्ली पहुंचे चीनी विदेश मंत्री ने एनएसए डोभाल के साथ प्रतिनिधिमंडल स्तर की बातचीत की। अपनी बैठक में दोनों पक्षों ने शांति बहाली के लिए राजनयिक और सैन्य स्तरों पर सकारात्मक बातचीत जारी रखने की आवश्यकता पर बल दिया, जो द्विपक्षीय संबंधों के सामान्यीकरण के लिए एक पूर्वापेक्षा है। 2020 की गर्मियों में गलवान घाटी में दोनों पक्षों के बीच झड़प के बाद से यह सर्वोच्च स्तर पर पहली बातचीत है। गतिरोध को हल करने के लिए दोनों देशों ने कई दौर की सीमा वार्ता की है। भारत ने सभी घर्षण बिंदुओं पर पूर्वी लद्दाख में पूर्ण विघटन का आह्वान किया है।

डोभाल को मिला चीन का निमंत्रण

चीनी पक्ष ने सीमा विवाद पर वार्ता को आगे बढ़ाने के लिये डोभाल को चीन का दौरा करने के लिए आमंत्रित किया। सूत्रों ने कहा कि डोभाल ने निमंत्रण पर सकारात्मक प्रतिक्रिया दी और कहा कि मुद्दों को सफलतापूर्वक हल करने के बाद वह यात्रा कर सकते हैं। वांग और डोभाल दोनों देशों के बीच सीमा वार्ता के लिए विशेष प्रतिनिधि के रूप में काम कर रहे हैं।  

No comments

Post a Comment

Don't Miss
© all rights reserved
Managed By-Indevin Group