देश

national

राजस्व अभिलेखों में नहीं दर्ज हैं रामगंज का आयुर्वेदिक अस्पताल व एनम सेंटर

हरिकेश यादव-संवाददाता (इंडेविन टाइम्स)

भादर-अमेठी। 

भारत की आजादी के समय से बने अस्पताल अभी तक राजस्व अभिलेखों में दर्ज नहीं है। जिसके कारण सरकारी जमीन पर अगल-बगल के लोगों ने कब्जा कर लिया है तथा बची हुई जमीन पर भी निगाह गड़ाए हुए हैं ।

मामला अमेठी जनपद के भादर विकासखंड के अंतर्गत स्थित रायपुर रामगंज का है जहां पर आयुर्वेदिक हॉस्पिटल व एनम सेंटर तथा मंडी परिषद की जमीन अभी तक राजस्व अभिलेखों में दर्ज नहीं है। जिसके कारण अगल बगल के दबंग लोगों ने सरकारी जमीन पर कब्जा कर लिया है तथा बची हुई जमीन पर भी लोग कब्जा कर रहे हैं। रायपुर रामगंज के वर्तमान प्रधान सुनीता सोनी ने सरकारी अस्पतालों को अभिलेखों में दर्ज ना होने पर कड़ी आपत्ति जताई है तथा राजकीय आयुर्वेदिक अस्पताल व एनम सेंटर को राजस्व अभिलेखों में दर्ज करने के लिए अमेठी समाधान दिवस पर तहसील प्रभारी को लिखित प्रार्थना पत्र दिया । उनका आरोप है कि अस्पताल बने हुए लगभग 70 साल पूरे हो गए हैं लेकिन अभी तक वह राजस्व अभिलेखों में दर्ज नहीं है। जिसके कारण लोग सरकारी भूभाग पर पक्के मकान बनाकर अवैध रूप से कब्जा कर चुके हैं। कुछ दबंग लोग प्राथमिक विद्यालय की जमीन पर भी कब्जा कर लिए हैं तथा बची हुई जमीन पर भी निगाह गड़ाए हुए हैं । मामले को संज्ञान में लेते हुए तहसील प्रभारी ने पांच सदस्य राजस्व टीम गठित की है तथा गलत आख्या मिलने पर राजस्व टीम पर गंभीर कार्यवाही की संभावना है ।अब देखना बाकी है कि अभी तक लापरवाह राजस्व टीम क्या ठीक से काम करेगी अथवा कागजी कोरम पूरा करके मामले को दफन करने का प्रयास करेगी। यदि सरकारी भूमि से अतिक्रमण हटाया जाता है तो कई बीघे की जमीन दबंगों के कब्जे से मुक्त होगी। रामगंज क्षेत्र के ग्राम वासियों  रंजीत सोनी मानना है कि ऐसे अवैध अतिक्रमण धारियों के  घर पर बुलडोजर चलवा कर उनके अवैध मकानों को ध्वस्त कराया गया तो  लोगों में सरकार के प्रति विश्वास बढ़ेगा।

No comments

Post a Comment

Don't Miss
© all rights reserved
Managed By-Indevin Group