देश

national

बीएड अभ्यर्थियों को हाईकोर्ट से बड़ा झटका

प्रयागराज।  

इलाहाबाद हाईकोर्ट ने टीईटी 2021 के प्रमाण पत्र जारी करने पर रोक लगा दी है। इस मामले में कोर्ट ने राज्य सरकार से जानकारी मांगी है कि बीएड अभ्यर्थियों को प्राइमरी स्कूल में सहायक अध्यापक नियुक्त करने के संबंध में राष्ट्रीय शिक्षक शिक्षा परिषद ने कोई नई अधिसूचना जारी की है या नहीं यह आदेश न्यायमूर्ति सिद्धार्थ प्रतीक मिश्र व अन्य की याचिका पर सुनवाई करते हुए दिया है। कोर्ट जानना जहां है कि राष्ट्रीय शिक्षक शिक्षा परिषद  (NCTE) की 28 जून 2018 की अधिसूचना में बीएड अभ्यर्थियों को प्राइमरी स्कूलों में सहायक अध्यापक नियुक्त होने के लिए योग्य माना है लेकिन राजस्थान हाईकोर्ट ने इस अधिसूचना को रद्द कर दिया है। कोर्ट ने जाना चाहा कि अधिसूचना रद्द होने के बाद कोई नई अधिसूचना जारी की गई है या नहीं।

दरअसल, DElEd अभ्यर्थियों ने बीएड अभ्यर्थियों को प्राइमरी स्कूल में सहायक अध्यापक बनने से रोक लगाने के लिए हाई कोर्ट में याचिका डाली थी। याचिकाकर्ताओं की मांग है कि राजस्थान हाईकोर्ट ने एनसीटीई द्वारा 28 जून 2018 को जारी उस अधिसूचना को रद्द कर दिया है जिसमें कहा गया था कि प्राइमरी स्कूल के टीचरों के लिए बीएड डिग्रीधारी भी मान्य माने जाएंगे। मामले की सुनवाई करते हुए कोर्ट ने टीईटी 2021 के प्रमाण पत्र पर रोक लगा दी है। अगली सुनवाई 16 मई को होगी। इस पर उत्तर प्रदेश सरकार अपना जवाब हाईकोर्ट में पेश करेगी।

Don't Miss
© all rights reserved
Managed By-Indevin Group