देश

national

दास्तान ए हाल बयां कर रही अमेठी की सड़कें

० मरम्मत के लिए तरस रही सड़कें

हरिकेश यादव-संवाददाता (इंडेविन टाइम्स)

अमेठी । 

लोक निर्माण विभाग प्रान्तीय खण्ड अमेठी की ग्रामीण सड़के जर्जर है। मरम्मत कार्य मे सरकार भेदभाव बरत रही है। यह हाल अमेठी के जनप्रतिनिधि ,अभियन्ता,अधिकारियो ने तो हद पार कर दी। ग्रामीण क्षेत्र की सडके बनी। डा राम मनोहर लोहिया समग्र ग्राम विकास योजना के अन्तर्गत सडक से गांव जोडा गया। लेकिन अब इन सडको को सरकार के अधिकारी, अभियन्ता,जनप्रतिनिधि भी भेदभाव बरतने की ख़बर आ रही है।  बिकास खण्ड की भरेथा ग्राम पंचायत मे अमेठी-दुर्गापुर मार्ग से भरेथा पूरे मोतीराम तक सडक मार्ग से जोडा गया। वर्ष 2016-17 मे लोहिया ग्राम मे सडक लोक निर्माण विभाग प्रान्तीय खण्ड अमेठी से निर्माण हुई। लेकिन अब सडक बिभाग ने कोड नंबर आन लाईन नही दर्ज किए। सडक जर्जर, पटरी क्षतिग्रस्त है। मरम्मत कार्य के लिए बिभागीय कर्मचारी कहते है। कि आन लाईन बिभाग मे कोड नंबर एलाट नही है। सासद, विधायक शिकायत करे। तभी प्रदेश सरकार कोड नंबर एलाट करेगी। जब तक कोड नंबर नही जारी होगा। तब तक सडक मार्ग पर कोई नही होगा। 

विकास खण्ड-भेटुआ की ग्राम पंचायत गुगवाछ से बैसडा को जोडते हुए भेटुआ ग्राम पंचायत को जोडने वाली सड़क को भी कोड नंबर एलाट नही हुआ। साढे तीन किलोमीटर सड़क को लोक निर्माण विभाग प्रान्तीय खण्ड अमेठी-दुर्गापुर रोड से बनायी है। जिले का मुख्य पावर हाऊस गुगवाछ मे बना है। जो पूरे जिले मे रोशनी से उजाला कर रहा है। इतने बडी ऊर्जा इकाई के साथ शासन प्रशासन भेदभाव कर रहा है। तनिक भी शर्म नही रह गई। सिर्फ द्वेष भाव को फैला रहे है। भाजपाई भी सरकार को सोच को बदलने को राजी नही है।

No comments

Post a Comment

Don't Miss
© all rights reserved
Managed By-Indevin Group