देश

national

दुनिया भर में तेजी से फैल रहा है 'व्हाइट लंग सिंड्रोम'

Saturday, December 2, 2023

/ by इंडेविन टाइम्स

'व्हाइट लंग सिंड्रोम' नामक एक रहस्यमय बीमारी के मामले विश्व स्तर पर बढ़े हैं, कुछ मामले यूरोप में, उसके बाद अमेरिका और चीन में सामने आए हैं। द मिरर के अनुसार, व्यापक प्रकार का निमोनिया पहले ही डेनमार्क में 'महामारी' स्तर तक पहुंच चुका है।

बता दें कि अमेरिका के ओहायो में 'व्हाइट लंग सिंड्रोम' के 142 से ज्यादा मामले सामने आए हैं. इस बात की पुष्टि वॉरेन कंट्री हेल्थ डिस्ट्रिक्ट की। 'ओहायो डिपार्टमेंट ऑफ हेल्थ' के अनुसार इसे आउटब्रेक करार दिया जा सकता है।  हालांकि, अधिकारियों का मानना है कि यह एक नई सांस से जुड़ी बीमारी है।

क्या है WHITE LUNG SYNDROME? 

व्हाइट लंग सिंड्रोम एक प्रकार का निमोनिया है जिसके कारण फेफड़ों में सूजन आ जाती है। यह बीमारी इस समय विशेष रूप से बच्चों में व्याप्त है। संयुक्त राज्य अमेरिका के ओहियो में पिछले महीने बच्चों में निमोनिया के 150 मामले दर्ज किए गए।

इस बीमारी के लक्षणों में बुखार, खांसी और थकान शामिल हैं। कुछ मामलों में, व्यक्ति को सांस की तकलीफ और कफ का भी अनुभव हो सकता है, एक विशेष प्रकार का बलगम जो फेफड़ों और गले में उत्पन्न होता है।

प्रभावित होने वाले बच्चों की औसत उम्र

व्हाइट लंग सिंड्रोम का सबसे अधिक खतरा बच्चों को है। प्रभावित होने वाले बच्चों की औसत उम्र 8 साल है और सबसे छोटे बच्चे 3 साल के हैं। ये बच्चे टेस्ट माइकोप्लाज्मा निमोनिया, स्ट्रेप और एडेनोवायरस के लिए भी पाए गए हैं।  द मिरर के अनुसार, व्यापक प्रकार का निमोनिया पहले ही डेनमार्क में 'महामारी' स्तर तक पहुंच चुका है। इस बीच, नीदरलैंड ने विशेष रूप से बच्चों में व्हाइट लंग सिंड्रोम के मामलों में वृद्धि की सूचना दी है। द मेट्रो के अनुसार, व्हाइट लंग सिंड्रोम माइकोप्लाज्मा निमोनिया, एक जीवाणु संक्रमण के कारण होता है।

क्या है रोकथाम ?

नियमित रूप से हाथ धोने, छींकने या खांसने के दौरान मुंह ढकने और बीमार होने पर घर पर रहकर  भीड़-भाड़ से बचे इससे व्हाइट लंग सिंड्रोम को रोका जा सकता है। स्टेटेंस सीरम इंस्टीट्यूट (एसएसआई) के वरिष्ठ शोधकर्ता हैन-डोर्थे एम्बॉर्ग के अनुसार, व्हाइट लंग सिंड्रोम के मामले असामान्य नहीं हैं। द मिरर ने उनके हवाले से कहा, कि इस बार कोविड-19 महामारी के कारण कमजोर प्रतिरक्षा प्रणाली के कारण बच्चों में मामले विशेष रूप से प्रचलित हैं।

Don't Miss
© all rights reserved
Managed By-Indevin Group